Saturday, August 30, 2014

मोदी जी की जापान यात्रा

मोदी जी जापान गए हैं
साथ में अडानी अम्बानी
अजीम प्रेम जी,कुछ अन्य 
को भी साथ लेकर गए हैं ,
वहां के नेता राजनेताओं से
मिलेंगे जूलेंगे ,खाएंगे पीयेंगे ,
घूमेंगे फिरेंगे ,देखेंगे भालेंगे
आनंदित होंगे वार्ताएं करेंगे ,
वहां के नेताओं को भी
अपने कमर्शियल कौशल से
अपनी वाक्पटुता के छल से
पूर्णत:प्रभावित करेंगे ,
फिर वो भाजपा सरकार को
इतना आश्वासन अवश्य देंगे
जितना भी वो चाहेंगे
धन मान सम्मान अवश्य देंगे ,
भारत को अब जापानी भी
मोदी जी की निगाहों से देखेंगे
सम्पूर्ण भारत में रेलों का जाल
जापानी उपक्रम फैला देंगे ,
मात्र शर्त ये है मोदी जी ,
जैसा हम कहे आप वैसा करेंगे
चाहे सभी देशों से संबंध रखना
पर चीन से हमेशा दूर रहेंगे ,
मोदी जी सभी प्रकार का आश्वासन
जापानियों को अवश्य देंगे
और उसके बदले में इच्छित निवेश
जापान से कराकर ही दम लेंगे ,
आशा है मोदी जी की इस यात्रा का
भारत को अभिभूत फल मिलेगा
भविष्य में एक दुसरे के प्रति
सहयोग और सद्भावना,प्रेम बढ़ेगा |






वास्तविकता यही है

वास्तविकता
यदि आप किसी यार ,दोस्त ,रिस्तेदार ,व्यापारिक दोस्त ,पडोसी के घर किसी शादी समारोह ,जन्मदिन ,साल गिरह ,या किसी भी फंक्शन का इन्विटेशन कार्ड देने के लिए उनके घर जाते हैं और दोनों हाथ जोड़कर प्रार्थना करते हैं कि आपने समारोह में अवश्य आना है ,आपके बिना सब कुछ अच्छा अच्छा नहीं लगेगा
उन्होंने कहा कि क्योँ नहीं भाई साहब अवश्य आएंगे ,हम नहीं आएंगे तो भला और कौन आएगा ,फिर आप तो अपने है आपके यहां नहीं आएंगे तो फिर किसके यहां जाएंगे ,हम तो आपके बिना अधूरे हैं ,सबसे पहले पहुंचेंगे भाई साहब ,कोई काम वाम हो तो बताइये ,अपने ही अपनों के काम आते हैं ,यदि वो ऐसा कहते हैं तो आप पक्का जान लीजिये कि वो आपके समारोह में आएंगे ही नहीं
यदि उन्होंने कहा ठीक है भाई साहब जरूर आएंगे या कोशिश करेंगे ,तो वो अवश्य ही आएंगे |
 

Friday, August 29, 2014

लव जेहाद कैसे समाप्त हो

लव जेहाद का खात्मा करना है तो ,
सबसे पहले अपनी लड़की और लड़कों को संस्कारित करना होगा ,अपना मान और अपमान की बातें समझाना होगा उनको उनके सम्मान की बातें भी बतानी होंगी ,ताकि जीवन में उनको जिल्लत ना उठानी पड़े ,
सर्व प्रथम दहेज़ को जड़ से समाप्त करना होगा ,
कखपति हो या ंकरोड़पति सभी की शादी कोर्ट में ही होगी रजिस्ट्रेसन ही मान्य होगा ,
किसी भी प्रकार का कोई शादी समारोह नहीं होगा ,
यदि लड़की चाहे तो पिता की जायदाद ,धन सम्पत्ति से अपना हिस्सा ले सकती है
यदि किसी भी दुसरे धर्म में शादी करती है तो उसे पिता की मल्कियत से कुछ भी नहीं मिलेगा ,
यदि कोई लड़के वाला अंदर खाते ,लुका छिपी धन माँगता पाया गया तो उसे कम से कम १४ साल की बामुसककत कैद का प्रावधान होना चाहिए , भय का वाता वर्ण पैदा करना होगा ,
यदि लड़की वाला भी जबरदस्ती या अंदर खाते ,लुका छिपी धान देता पाया गया तो उसे भी १४ साल की सजा का प्रावधान होना चाहिए ,
जो धर्मानुयायी फिर भी पैसे का लालच या धमकी या अपहरण अथवा किसी भी प्रकार का अनुचित कार्य करके धर्मांतरण की कोशिश करेंगे या करवाएंगे उनको भी उम्र कैद का प्रावधान होना चाहिए ,
यदि कोई सरकारी अफसर भी ऐसे कार्य में लिप्त पाया गया तो उसको भी कम से कम १० साल की सजा का प्रावधान होना चाहिए ,
कोई पंडित  ,पादरी ,मौलवी ,काजी ,भी लिप्त पाया जाए तो उसे भी १० साल की कैद का प्रावधान होना चाहिए ,

Thursday, August 28, 2014

दिल्ली में केवल आम आदमी पार्टी कि सरकार

सुना है की दिल्ली विधान सभा के चुनावों में  भाजपा अपनी पार्टी के सभी सांसदों को आम आदमी पार्टी के खिलाफ उतार रही है ,जो की दिल्ली के सभी चुनावी क्षेत्रों में भाषा और क्षेत्र  के हिसाब से कम्पैनिंग करेंगे और चाहे कुछ भी करना पड़े दिल्ली को फतह करके ही रहेंगे ,यानी कि मोदी और केजरीवाल कि कुस्ती दिल्ली में ही होगी ,वैसे भी दिल्ली में कुल मिलाकर २७२ वार्ड हैं यदि एक वार्ड में एक एक सांसद भी लगा दिया जाए तो भी उनके पास समर्थक सांसद सहित ३२५ हैं फिर  भी ५३ संसद और बाकी बचेंगे ,सूना है कि वो सम्पूर्ण दिल्ली में हर वार्ड में जाकर जासूसी करेंगे और हो सका तो फर्जी वॉट्स डलवाने  में भी भरपूर आर एस एस कि मदद भी करेंगे और ऊपर से मोदी जी भी सभी वार्डों को सूचित करेंगे ,फिर मै सोचता हूँ कि क्या होगा बेचारे केजरीवाल जी कि पार्टी का {,भाजपाइयों के मुताबिक़ दिल्ली कि ७० सीटों पर वो जीत जाएंगे }और दिल्ली में भाजपा कि सरकार बन जायेगी ,
मुझे समझ नहीं आता कि इतने सांसद और इतने जोर शोर से तैयारी  वो भी ,युद्ध स्तर पर  ,क्या इससे ऐसा नहीं लगता कि भाजपाई ,आम आदमी पार्टी या केजरीवाल से बुरी तरह घबराई हुई है ,इतना डर तो हमने पहले कभी भी नहीं देखा |
अब सवाल उठता है कि यदि फिर भी भाजपा कि सरकार दिल्ली में नहीं बनी और केजरीवाल जी जीत गए यानी कि आम आदमी पार्टी कि सरकार बन गई तो फिर मोदी जी या भाजपा अथवा उनके समर्थनों का क्या होगा ,वो अपना मुंह कहीं छिपाएंगे ,या डूब कर मर जाएंगे ,क्या इनकी इज्जत खाक में नहीं मिल जायेगी ,
और ये भी पक्का है कि दिल्ली कि जनता ने तय कर लिया है" इस बार केजरीवाल ,नहीं चाहिए मोदी और नाहीं सोनिया जी का लाल"

Tuesday, August 26, 2014

पोल खोल कर रख दी

मोदी जी और भाजपा सरकार की लोकप्रियता की पोल खोल कर रख दी ,
जी हाँ अभी हाल में हुए बिहार, पंजाब ,कर्नाटक और मध्यप्रदेश में हुए मध्यावधि ,विधान सभा चुनावों ने मोदी जी का जो ग्राफ दिन प्रितिदिन ऊपर चढ़ता बताया जा रहा था और उनकी लोकप्रियता में अभूतपूर्व इजाफा होना बताया जा रहा था उसका गुब्बारा फूट चुका है ,जानते हैं ऐसा क्योँ हुआ ,इसका कारण है कि आप माने या ना माने "जनता सब कुछ जानती है "झूठ कि लाली पॉप ,शब्दों कि लाली पॉप खाने से किसी का पेट नहीं भरता ,पेट तो रोटी से ही भरता है ,और मोदी जी ये भली भांति जानते हैं फिर भी शब्दों के जाल से जनता को बाँधना चाहते हैं ,सो जनता बांध गई परन्तु कहावत है कि "काठ कि १ बार ही चढ़ती है बार बार नहीं "
अभी तो आगे आगे देखना क्या होता है ,यदि मोदी जी ने रचनात्मक काम नहीं किया तो उसका हश्र क्या होगा मोदी जी अच्छी तरह जानते हैं ,वैसे ५ साल उनके पास हैं वो कुछ भी कर सकते हैं |

Monday, August 25, 2014

मोदी जी की लोकप्रियता चौथे आसमान पर

कटाक्ष
मोदी जी और भाजपा की लोकप्रियता पिछले १०० दिन के सुशासन के परिणामों के कारण चौथे आसमान पर पहुँच चुकी है यानी की पिछले चुनाव में जो उनको २८३  सीट्स मिली थी अब वो बढ़कर ३१४ हो चुकी हैं ",पंजाब केसरी " २५/८ /१४ के समाचार पत्र के द्वारा ,आप जानते हैं आखिर ऐसा क्योँ हुआ ,
१ वो भारत के सबसे अधिक ईमानदार नेता है ,इसीलिए उन्होंने अपना पूरा चुनाव अभियान लगभग ३ लाख किलोमीटर ,पैदल और साइकिल से मात्र दो जोड़ी कपड़ों के सहारे एक वक्त खाना खाकर पूरा किया ,उन्होंने अपना एक वक्त का खाना गरीब आदमियों को खिलाया ,२
२ जो महंगाई भाजपा के आने से पहले आसमान को छू रही थी उसको उन्होंने अपने छू मंतर से जमीन पर लिटा दिया ,जैसे आटा गेंहू  पहले ३० रुपया किलो बिक रहा था उसे २० रुपया किलो कर दिया ,आलू ३० रूपये से घटाकर १० रुपया और टमाटर ८० रूपये से ३० रूपये ,प्याज ५० रूपये से १८ रुपया किलो और दूध ६० रूपये से घटकर ४० रूपये हो गया ,जिसके कारण मुद्रा स्फीति काफी नीचे आ गई और जनता में ख़ुशी की लहर दौड़ गई है ,
३ गरीबी जो पहले चार्म सीमा पर थी वो भी काफी नीचे आ गई क्योँकि मोदी जी ने कांग्रेस के मुकाबले अमीर आदमियों की कमाई में कुछ वृद्धि कर दी जिसके कारण रातों रात बहुत सारे गरीब लोग अमीर हो गए ,
४ मोदी जी के प्रयासों के कारण अब भ्र्ष्टाचार दिल्ली के क्या देश के किसी भी सरकारी दफ्तर में देखने तक को नहीं मिलता किसी भी दफ्तर में जाइए मोदी जी का नाम लीजिये और बिना रिश्वत दिए अपना काम करा लीजिये ,वो बात अलग है की रिश्वत का नाम बदल कर सुविधा शुल्क के रूप में देना पड़े और वो भी पहले से बहुत ज्यादा ,अब यदि काम कराना है तो ये तो करना ही पडेगा ,
 ५ पाकिस्तान को उन्होंने जैसे ही अपनी आँखे दिखाई और फटकार लगाईं तो नवाज शरीफ साहब हाथ जोड़कर मोदी जी के पैरों में पड़ने के लिए गिड़गिड़ा रहे हैं ,
६ चीन  भी अपनी सेनाओं को पीछे हटाकर ले गया और भविष्य में कोई भी गुस्ताखी ना करने की कसम खाकर वापस चीन की दीवार के भी दूसरी पार चला गया ,
आतंकवादी फैसला करने के लिए उनको बार बार गुहार कर रहे हैं और अपनी जान की भीख मांग रहे हैं
७ राम मंदिर अयोध्या में बन्ना शुरू हो गया है अगले साल तक हिन्दू ही नहीं मुस्लिम भी उदघाटन समारोह में शामिल होंगे
८ धरा ३७० का मोदी जी के आने से ही कोई महत्त्व नहीं रह गया है वो भी २ या ४ माह में खत्म हो ही जायेगी
९ अमेरिकन राष्ट्रपति मोदी जी आवभगत करने हेतु बांह फैलाये खड़ा है और देखना चाहता है की आखिर मोदी है क्या चीज
१० उनकी  अपनी पत्नी आज भी उनके लिए सारे व्रत रखती हैं उनकी दीर्घायु के लिए कामना करती हैं और उनसे मिलने के लिए भगवान जी से मध्यस्थता कराना चाहती हैं पर मोदी जी अभी नहीं मान रहे हैं
११  जिस  हिसाब से मोदी जी देश विदेश की यात्रा कर रहे हैं और उनको धन और मुहावरे या बातें बाँट रहे हैं उससे तो ऐसा ही लगता है कि आसपास के सभी देश भी मोदी जी और भाजपा सरकार के मुरीद हो जाएंगे |









हमारे चुप प्रधानमंत्री मोदी जी

पाक मुद्दे पर चारों और से सभी नागरिक एक ही बात कहते नजर आ रहे हैं कि आखिर मोदी जी कुछ करते क्योँ नहीं ,या कुछ बोलते क्योँ नहीं ,अब तो हद ही हो गई है कि उनके समर्थक भी बोलने लगे हैं ,
दरअसल बात ये है कि मोदी जी बहुत ही बुद्धिमान व्यक्ति हैं ,वो गुजराती होने के नाते लड़ाई झगड़ों से दूर ही रहने वाली परवर्ती के हैं इसलिए भी वो पाक से पंगा लेना नहीं चाहते ,दुसरे ये काम प्रधानमंत्री का नहीं बल्कि रक्षा मंत्री का होता है इसलिए वो ही देख रहे हैं ,तीसरे उन्होंने कारगिल युद्ध का परिणाम देख लिया जिससे कुछ हासिल नहीं हुआ ,केवल लाशों के और वो भी निरीह सैनिकों और व्यक्तियों की,इसलिए यदि पाक के साथ युद्ध को टाला जाए तो ज्यादा अच्छा है
यदि  दो चार सैनिक शहीद हो भी गए तो कोई बात नहीं उससे तो अच्छा है की युद्ध होता और हजारों सैनिक और नागरिक मारे जाएँ ,
चौथा मुख्य मुद्दा है जिस खिताब को अटल बिहारी वाजपेयी ना पा सके उसे पाने के लिए मोदी जी कुछ भी कर सकते हैं और वो खिताब है "शान्ति के देवदूत " यदि मोदी जी को शांति का देवदूत ही बन्ना है तो फिर कुछ भी हो ,वो पाकर ही रहेंगे ,
दुसरे पडोसी धर्म अपनाना हम भारतवासियों का मानवता के नाते फर्ज बन जाता है ,
परन्तु जो हमारे अपने मृत्यु शैया पर लेट कर शहीद हो चुके हैं उनको भी तो नहीं भुलाया जा सकता इसलिए देश की मर्यादा का प्रश्न हमेशा उनके  जीवन को प्रदूषित करता रहेगा और जनता को जवाब भी देय होगा |

Tuesday, August 12, 2014

एकमात्र पुरुष

इस संसार में एकमात्र पुरुष ही ऐसा प्राणी है जो अपने प्यार को सैंकड़ों ,हजारों ,या जितनों में भी बाँट सके बाँट देना चाहता है और जिसको भी अपना प्यार देता है ,बदले में उससे कुछ ना कुछ लेना भी चाहता है ,यानी कि मुफ्त में किसी को प्यार नहीं देता ,जब कि प्राकृतिक तौर पर जानवर भी अपना प्यार एक के अलावा किसी दूसरे से अपना प्यार नहीं बांटते ,यानी कि वो भी प्रकृति के नियमों का उललंघन नहीं करते ,पर एक पुरुष महाशय हैं जो कि खुल्ल्मखुल्ला प्रकृति के नियमों का भी उललंघन भी करते हैं और फिर भी खुद को सभ्य और संस्कारी साबित करने कि कोशिश करते हैं ,ये भी दुनिया का नौवा आश्चर्य है |

Monday, August 4, 2014

आत्मविभोरता

आत्मविभोर रहो
दूसरों को  आत्मविभोर करो
आपके समीपस्थ वातावरण भी
आत्मविभोर रहेगा ,
परिणाम भी सुखद और
आत्मविभोर  ही होंगे
समस्त जन आपकी
प्रशंसा और  स्तुति करेंगे
जिस पगडण्डी पर आप चलेंगे
सभी आपका पगानुसरण करेंगे
आपकी वाणी से निकले
एक एक शब्द को
मूल मंत्र मानकर
आत्मविभोर होते रहेंगे |

Friday, August 1, 2014

परिवार में बड़ा होने का फर्ज और उसके लाभ

आज कैसा ज़माना आ गया है देखो

सबसे पहले अपने माँ बापू के डाबर को पालो पोसो ,
फिर उनको पढ़ाओ लिखाओ ,
व्यापार कराओ या नौकरी लगवाओ ,
फिर उनकी शादी करो ,
अपने बच्चों को मत पुचकारो ,उनके बच्चों को प्यार करो
अपने बच्चों को कारपोरेशन के स्कूल में पढ़ाओ या मत पढ़ाओ ,पर उनके बच्चों को कान्वेंट में पढ़ाओ ,
उनके बच्चों की गलती पर अपने बच्चों को पीटो पर उनके बच्चों को हाथ मत लगाओ ,
हाथ लगाया तो जाली कटी सुनो ,और चुप बैठ जाओ ,या उनके बर्तन अलग कराओ
किसी शादी ब्याह या जमीन जायदाद के लिए कर्जा लेना है तो अपने नाम में लाओ पर सभी जगह पर उनका नाम अवश्य लिखवाओ ,नहीं लिखवाया तो गाली खाओ ,
ब्याज तुम खुद भरो ,घर खर्चा तुम खुद दो ,पर कमाई का हिसाब मत मांगो ,कमाई का हिसाब माँगा तो ,हम हम नहीं तुम तुम नहीं ,
ज्यादा बात बढ़ी तो सभी अलग अलग हो जाओ ,
जब बटवारा होगा तो ट्रैन का आखिरी डिब्बा भी उतना ही हिस्सा लेगा जितना आपको मिलेगा ,
सभी भाइयों को अपने से ज्यादा हिस्सा दे दो तब भी ये एलीगेसन लगेगा की आपने उनको कम  दिया है ,
और यदि उनमे थोड़ी सी सहनशीलता नहीं है तो मुकदद्मे झेलने के लिए तैयार हो जाओ और फिर कोर्ट के चक्कर बुढ़ापे में काटते रहो ,
सुबह को रोटी लेकर जाओ ,कोर्ट में तारीख भुगतो ,खाना खाओ और बुड्ढे होते जाओ ,
जो कर्ज तुम्हारे सर पर चढ़ा था उनसे बोलो दो तो जवाब मिलेगा हम कौन सा कर्जा लेकर आये थे जो लाया वो ही देगा ,और एड़ियां रगड़ते रगड़ते ,कर्जा देते ,अपनी अओउलाद और पत्नी की गाली खाते खाते एक दिन नरक लोक सिधार जाओ ,
तुम फर्ज पूरा करते करते गरीब और बीमार होकर अपमान जनक स्तिथि में जीवन बिताओ ,और वो आराम से ऐश्वर्य पूर्ण जीवन बिताएंगे ,
ऐसी स्तिथि से तो भाइयो अच्छा है की अब ज़माना आ गया है
अपनी अपनी दाढ़ी में घस्सा लगाओ
चाहे सारा डाबर भाड़ में ही कौन ना जाए |