Monday, June 11, 2018




जब तक शरीर में शक्ति है
पत्नी के मुख पर मस्ती हैं
कुर्सी ही जिसकी किश्ती है
जब तक उसकी चलती है
तब तक वो  खूब चलाता है
वो  भारत का नेता कहलाता है 

Sunday, June 10, 2018

modi ji khud ko surkshit nahin rakh paa rahe


कैसे हैं हमारे देश के प्रधानमंत्री मोदी जी
जिस देश का प्रधानमंत्री २२०० सुरक्षा कर्मियों के होते हुए खुद को सुरक्षित नहीं रख सकता वो देशवासियों की क्या खाक रक्षा करेगा जिनके पास कोई सुरक्षा कर्मी ही नहीं है|  महा कमजोर प्रधानमंत्री,
देश वासियों की सुरक्षा नहीं ,
देश की सुरक्षा नहीं
बहु बेटियों ,माँ ,बहनों की सुरक्षा नहीं ,
सैनिकों की सुरक्षा नही,जो हमारी सुरक्षा में रात दिन मर रहे हैं
किसानों की सुरक्षा नहीं ,
सीमा की सुरक्षा नहीं
गाय की सुरक्षा नहीं ,
फिर सुरक्षा किसकी है ,
भाजपा पार्टी की ,
राष्ट्रिय सेवक संघ की
अम्बानी अडानी ,नीरव मोदी ,ललित मोदी ,माल्या ,कुरैशी की 

Saturday, June 9, 2018

raajniti kya ?

राज निति भी क्या चीज है ?


राजनीती भी क्या चीज है ,चुनाव के वक्त बडे से बड़े  नेता को  भी ,किसान के मिटटी या शौच में गंदे हुए पैरों को भी छुआ देती है ,परन्तु चुनाव जीतने के बाद वो ही किसान भली प्रकार से नाहा धोकर और अच्छे कपडे पहिनकर उसी नेता से मिलने जाता है तो नेता जी मिलते ही नहीं ,और यदि गलती से मिल भी गए तो पहिचानते ही नहीं, कैसे कैसे खेल खिलाती है राजनीति , अब सोचिये की यहाँ नेता हरामी है या वो सीधा साधा किसान ,कुर्सी मिलते ही आसमान पर बैठ जाते हैं ये नेता ,
और बेशर्म इतने की अगले ५ साल बाद धोकर पीने को पहुँच जाते हैं फिर भोले भाले किसानों के पास उनको अपना सगा बाप बनाने ,  

Wednesday, June 6, 2018

majnoo

मजनू बनने के लिए भी 
जान को हथेली पर रखना पड़ता है 
मार पिटाई तो सभी खा लेते हैं परन्तु 
बहुतों को तो जान से हाथ धोना पड़ता है | 

desh ki janta ne congres hi ko kyoun chuna

क्या जनता अन्याय कर रही है भाजपा के साथ ?
नहीं ,ठीक कर रही है

इसे देश की जनता ने कांग्रेस को दिए ६० साल और भाजपा को ४ साल में पिछवाड़े पर लात मरने को तैयार खड़े हैं ,ऐसा क्योँ ?क्योँकि मोदी जी , देश विदेश ,शहर ,कस्बे ,गाँव गाँव सभी जगह दिखा रहे हैं अपना रूप विकराल ,देश की जनता को पता था कि यदि देश इनको दे दिया तो ये बर्बाद करके छोड़ेगें ,
और वास्तव में देश को इन्होने ४ साल में ही  ऐसा कर दिया की जनता कर रही त्राहि त्राहि , और खुद हो रहे मालामाल ,

Tuesday, June 5, 2018

nari aaskti

नारी आसक्ति
पुरुष के नारी आसक्त ह्रदय की थाह पाना और उसके अंतर्मन  में लुप्त सुनहरे विचारों ,वा स्वप्नों को जान पाना उतना ही विषम है जितना की धरा के गर्भ में लुप्त खनिजों  ,वनस्पतियो ,आक्सीजनों ,उर्वरकों ,सुगंधों ,रंगों वा जल की मात्रा की जानकारी प्राप्त करना अथवा किसी तुतलाते शिशु के ह्रदय ,व्याप्त उसकी कठिनाइयों ,जिज्ञासाओं ,इच्छाओं ,या बाल क्रीड़ाओं का एवं उसके विवेक की सीमाओं को यथार्थ रूप में जान लेना ,
कुछ कार्य वर्तमान में भी ऐसे हैं जिनके बारे में विवेकशील मानव भी पता नहीं लगा पाया जैसे कि नभ में कितने तारे हैं ,कितने ग्रह  और कितने  पिंड हैं ,मनुष्य या पशुओं के सम्पूर्ण शरीर पर कितने बाल हैं ,अथवा पृथ्वी का ठीक प्रकार से आदि और अंत कहाँ हैं और इनसे भी कठिन है पुरुष के आशक्त ह्रदय की गतिशीलता ,एवं छुपे विचारो या कुविचारों ,की जानकारी प्राप्त करना ,
यद्द्यपि कथाओं कहानियों या शास्त्रों के द्वारा प्रचलित है कि स्त्री के ह्रदय की थाह तो मानव तो क्या देवता तक भी न नहीं पा सके परन्तु आसक्ति की थाह में पुरुष  स्त्री से बहुत आगे हैं क्योँकि स्त्रियों के ह्रदय में आसक्ति का भण्डार नहीं होता बल्कि आसक्ति तो उसके ह्रदय में स्वयं पुरुष ही उतपन्न करता है |

के पी चौहान 

Monday, June 4, 2018

g s t & e way bill


जी एस टी & ई वे बिल 
यदि मुख्यमंत्री केजरीवाल जी ने दिल्ली को अपनी बनाना है तो जी एस टी की तो कोई बात नहीं परन्तु दिल्ली को ई वे बिल से बचाना पडेगा ,नहीं तो दिल्ली का व्यापारी वर्ग और मजदूर तबका खत्म हो जाएगा ,जबकि भाजपा ने और मोदी जी ने ,नॉट बंदी  और सीलिंग की मार से तो पहले ही दिल्ली वासियों की कमर तोड़ रखी है,बची खुची तो खत्म होगी ही ,परन्तु साथ में केजरीवाल जी की राजनीती का भी अंत हो जाएगा और मोदी जी यही चाहते हैं यानी की केजरीवाल जी को दिल्ली से  भगाना क्योँकि वो ३ वर्ष  पहली हार  को अभी तकपचा नहीं पाए हैं,वैसे तो जी एस टी  ने सम्पूर्ण देश की ही कमर तोड़ राखी है ,परन्तु दिल्ली और केजरीवाल जी उनके निशाने पर हैं 
और मोदी जी जानते हैं की २०१९ में वो नहीं आएंगे इसलिए वो सम्पूर्ण देश को अपनी हसरतें पूरी करने हेतु नेस्तनाबूद करने में लगे हैं