Tuesday, December 31, 2013

नव वर्ष २०१४ का आगमन

नव वर्ष की
अनुपम बेला पर
नव आदित्य का हो
आगमन ,
नव वृक्ष हों
नव कोपलें हों
कुञ्ज ही  कुञ्ज हों
बसंत से
खिला रहे चमन ,
सतकर्म करें
सम्पूर्ण वर्ष भर
प्रेम रुपी अमृत का
हम करें आचमन ,
चहुँ ओर
शांति व् सद्भाव हों
एक दूजे को करें
बार बार नमन: ,
समृद्धि ओर
शांति हेतु
निर्भीकता से
करते रहें परिश्रम ,
त्याग कर प्रमाद को
सत्य पथ को
क्योँ ना करें गमन ,
चाँद सितारे
सकुचा जाएँ
देख कर हमारा वतन ,
इंद्रा धनुष सी
देख कान्ति
हर्षित होते रहें
सम्पूर्ण जीवन |

Thursday, December 19, 2013

केजरीवाल जी मात्र १ ऐसे व्यक्ति हैं

केजरीवाल जी मात्र एक ऐसे व्यक्ति हैं ,जो आँख बंद करके भी देखते हैं ,आँख खोलकर भी देखते हैं ,और अब चश्मा लगाकर भी देखते हैं ,अब आप सोच रहे होंगे कि क्या भारत में बाकी सभी व्यक्ति अंधे हैं  पर ऐसा भी नहीं हैं क्योंकि हैम सभी आँखें होते हुए भी अंधे हैं ,ज़रा बताओ कैसा लगा ये जुमला ,शायद अच्छा नहीं लगा होगा क्योंकि यही तो सत्य है ,सत्य किसी को भी अच्छा नहीं लगता ,अब सचाई सुनिये ,
पिछले ६५ वर्षों से ,जब से देश आजाद हुआ ,यही तो हो रहा है जो निम्नलिखित है ,
गरीबी जैसी कि तैसी है क्योंकि कोई भी नेता या पार्टी उसे खत्म होने देना नहीं चाहती ,बल्कि वोट कि खातिर और गरीबी को बढ़ावा दिया जा रहा हैगरीब आदमी गरीब होता जा रहा है और अमीर प्रतिदिन अमीर |
भ्रष्टाचार तब से लेकर आज तक बढ़ता ही जा रहा है मिटने का नाम ही नहीं ले रहा ,अब लोकपाल  बिल शायद कुछ करे ,कहीं लोकपाल भी भ्रष्टाचार का शिकार ना हो जाए |
दलितों को दलित बनाया जा रहा है ,जहां समाज उनके साथ में मिक्स अप होता जा रहा है वहीँ नेता लोग उनको बार दलित कहकर वोट बटोरने में लगे रहते हैं ,और इस दलित शब्द को समाज से हटने ही नहीं देते |
जनता से ज्यादा नेता अधिक भ्रष्टाचारी हैं ,और सरकारी महकमों में सांडों कि कमी नहीं हैं वो भी देखा देखि बढ़ते ही जा रहे हैं उनके सहारे छोटे अफसर भी भ्रष्टाचार में लिप्त हैं ,खरबूजे को देख खरबूजा भी पीला हो रहा है
चुनावों में धन का महत्त्व बढ़ता ही जा रहा है इसके कारण गरीब और शरीफ आदमी चुनाव नहीं लड़ सकता ,आम आदमी पार्टी ने पहली बार पर्यटन किया हैं देखते है हश्र क्या होगा |
अधिकतर नेता और बड़े बड़े उद्योगपति अपना रुपया विदेश में भेज रहे हैं और देश को लूटकर विदेशी बेंकों कि जयजयकार करा रहे हैं |
देश में प्रत्येक जरूरी चीज इतनी महंगी होती जा रही है कि गरीब तो क्या माध्यम दर्जे के लोग भी अफ्फोर्ड
नहीं कर पा रहे ,कहने का तातपर्य है कि महंगाई दिनप्रतिदिन सुरसा के मुख कि भांति बढ़ती ही जा रही है
भिखारियों कि संख्या दिन प्रतिदिन देश में बढ़ती जा रही है और फिर बढे भी क्यों ना जब कि हमारे देश को बाहर का ब्याज भरने हेतु और पैसा ब्याज पर लेना पड़ता है वो कटोरे में भीख मांगकर फिर जनता या भिखारियों कि क्या गलती |
नारी कि अस्मिता आज भी दाव पर लगी रहती है पुरुष जाति के पास संस्कार नाम कि कोई चीज नहीं बची है स्त्रयों के साथ पशुओं से भी बदतर व्यवहार किया जा रहा है |
और भी बहुत से विषय हैं जो हमको नहीं दीख रहे पर केजरीवाल कि तीसरी आँख देख रही है |  समाप्त

Tuesday, December 17, 2013

दामिनी कि प्रथम पुण्य तिथि पर

दामिनी तुमको हम
हमारा देश और
सम्पूर्ण संसार
भला कैसे भूल सकता है  ,
तुम तो दिशा थीं 
आने वाले तूफ़ान की
महाविभीषिका थी 
सम्पूर्ण मात्र शक्ति हेतु 
भूमण्डल की स्त्री जाति  हेतु 
दैवीय प्रतिपदा थी,
तुम्हारी प्रेरणा एक
जागृति की चेतना थी 
नारी जाति में विलुप्त
,वेदना को चेतावनी थी
तुम्हारी आहुति के बाद
रणभेरी का बिगुल बजा दिया
प्रत्येक बलात्कारी को
सूली पर चढाने का
परचम फहरा दिया ,
तुम्हारे हेतु कुछ ना कर सके
मात्र एक दीपक जला दिया
तुम्हारी इच्छा को शिरोधार्य कर
पूर्ण करने का प्रण ले लिया |












Trustworthiness:
Vendor reliability:

Sunday, December 1, 2013

दहेज़ समस्या

आज सम्पूर्ण भारतवर्ष में दहेज़ समस्या सुरसा के मुख कि भांति दिन प्रतिदिन फैलता ही जा रहा है और ये हिंदुओं में ही नहीं अब तो मुस्लिमों में भी खूब फल फूल रहा है और ये हाल तो तब है जबकि लडकियां हाई क्वालिफाइड हो रही हैं और लड़के वहीँ केवहींहै जैसे कि वो २० वि शताब्दी में  थे और जो लडके २१ वीं शताब्दी में पहुँच गये तोवो तो कहीं भी किसी भी जाति में अपने जैसी पढ़ी लिखी लड़की देखि और शादी कर ली बिना ही दहेज़ के ,जब तक उनके पिताजी उनके लिए मोटा दहेज़ वाला बन्दा पटाते रहे तब तक बेटा शादी शुदा होकर १ बच्चे के बाप भी बन गये ,ये तो हुई हाई क्वालिफाइड लड़को कि बात ,अब समस्या आती है कि इन हाई क्वालिफाइड लड़कों ने तो अपनी मर्जी कि शादी कर ली ,फिर हाई क्वालिफाइड लड़कियों का क्या हो ,या तो वो भी इसी तरह से कहीं शादी कर लें या फिरघर में क्वारी बैठी रहें या फिर किसी थोड़े पढ़े लिखे ,खेती करने वाले या चाय अंडा बेचने वाले अथवा किसी छोटी मोटी नौकरी करने वाले से शादी कर लें ,अब वोलडकियां संकोचवश ऐसा भी नहीं कर पाती और जिस कारण से लड़कियों कि आयु जो शादीकरणे के लिए पहले १८ वर्ष थी वो बढ़कर २४ से २५ वर्ष हो गई और अब २१ वि शादी में २८ से ३२ हो गई और इसके बाद शादी का होना भी मुश्किल हो जाता है और अब तो शायद ये हालात हो जाएँ कि अधिकतर लडकियां जीवन भर क्वारी ही रह जायें | यदि ऐसा हुआ तो देश कि संरचना का ढांचा ही खराब हो जाएगा ,इसलिए इसे बचाया जाए |
तो मेरी सरकार और इस सम्पूर्ण समाज से ये ही प्रार्थना है कि वो इस समस्या के समाधान के लिए कोईऐसा क़ानून अवश्य बनाएँ ताकि दहेज़ लेने और देने वाले दोनों  को ही दोषी करार दिया जाय और जो भी दोषी मिले उसके लिए सबिधान में दंड कि व्यवस्था हो क्यों ना इसको मात्र रजिस्ट्रेसन या मंदिर में जाकर ही शादी सम्पूर्ण मानी जाए