Wednesday, February 8, 2017

एक कहावत है।
कमजोर की जोरू सबकी भाबी ,
धींग की जोरू सबकी चाची

Tuesday, February 7, 2017

ANTAA ( EK OUSHDHI )

लोग कहते हैं की जब कोई नेता अंटा( भांग का गोला) लगाकर लोकसभा में बोलता है तो उसकी शक्ति हजारों गुना बढ़ जाती है ,स्पीच देने की गति १०० किलो मीटर प्रति घंटे हो जाती है ,अपने सामने बैठे हुए सभी उसे सियार नजर आने लगते हैं ,उसकी भृकुटियां तन जाती हैं दिमाग भी बिजली की गति से तेज हो जाता है जिसके कारण उसकी सोचने की शक्ति बढ़ जाती है ,बजाय भाषण के कविताएं मुख से फूटने लगती हैं ,श्लोक प्रस्फुटित होने लगते हैं कटाक्ष करने की  आलोचना शक्ति में उछाल आ जाता है ,मैं मैं की आवाज उसके गले से आने लगती है ,उसको ऐसा लगने लगता है की उसके सिवाय इस देश में और कोई देश भक्त ही नहीं हैं या वो  सभी देश द्रोही हैं जो उसका अनुसरण नहीं करते ,या जो  उसकी बातों को सुनकर मेज नहीं थपथपाते ,
हमारे देश में बहुत से ऐसे नेताओं ने जन्म लिया है जो  प्रधानमंत्री गद्दी तक भी पहुंचे और अब भूतपूर्व भी हो गए हैं और वर्तमान में भी ऐसे कुछ नेता मौजूद हैं जो आज भी अंटा लगाकर कुछ से क्या बनाकर दिखा देते हैं । 

KATAKSH

भारतवर्ष को  आजादी १९४७ में आदरणीय प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी जी ने दिलवाई ,जबकि वो उस वक्त तक पैदा भी नहीं हुए थे ,अब सवाल उठता है कि जब वो पैदा ही नहीं हुए थे तो देश को उन्होंने आजादी कैसे दिलवा दी ,,मजे की बात तो यही है ,कयौकि वो उस वक्त किसी और देश के प्रधानमंत्री थे ,यानी की उस जन्म में ,और उनसे भारत की दुर्दशा देखि नहीं गई ,तो उन्होंने भारत वर्ष के दो व्यक्तियों को चुना एक स्व जवाहर लाल नेहरू और दुसरे स्व महात्मा गाँधी जी ,और इन दोनों नेताओं ने मोदी जी के दिशा निर्देशों के अनुसार कार्य किया ,जिसके कारण भारत को अंग्रेजों ने आजादी दे दी ,
पहली बात तो ये है की कुछ लोग समझते हैं की देश को सिर्फ एक व्यक्ति यानी कि नेहरू जी ने आजादी दिलवाई ,परन्तु मोदी जी के अनुसार एक नहीं दो व्यक्तियों ने आजादी दिलवाई थी जिनमे दुसरे गांधी जी थे ,परन्तु वास्तव में हमको ,देश को आजादी दिलवाने का श्रेय तो अजन्मे मोदी जी को ही जाता है ,
और आज ६६ साल के बाद फिर एक बार मोदी को प्रतीत हो रहा है की देश प्रीतिदिन गुलामी की और अग्रसर हो रहा है इसलिए उन्होंने नोटों की गुलामी से मुक्त करने हेतु नोट बदली demontisation कर दिया,क्योँकि ना बांस होगा ना बासुरी बनेगी और नाहीं बजेगी ,तो वो हमको माया से मुक्ति दिलाकर आजाद करने का भरषक पर्यटन कर रहे हैं।
अंत में मैं फिर कहूंगा की हमको आजादी दिलवाने वाले मोदी जी का अहसान हमको मानना चाहिए ,।
अब जब मैंने भी मान लिया है तो आप भी मान जाओ शायद मोदी जी और अंध भक्त खुश हो जाएँ ?

Monday, February 6, 2017

APNA VOTE KISI KO BHI DO,PAR,

जब भी देश में चुनाव आते हैं तो जनता को  एक चुनॉती पूर्ण फैसला लेना पड़ता है कि वो अपना अमूल्य अधिकार किस पार्टी को ,या किस व्यक्ति को दें और उसके सामने एक असमंजस की स्तिथि उतपन्न हो जाती है क्योँकि उम्मीदवार अच्छा है या फिर अपना सगा है और पार्टी खराब है ,दूसरी तरफ उम्मीदवार बेकार ,बिना पढ़ा लिखा ,बदमाश या बेवकूफ है और पार्टी अच्छी है तो वो अपना वोट किसको दे ,तो भाइयो इस स्तिथि से निकालने हेतु मैंने एक मूलमन्त्र उधृत किया है ,यदि आपको अच्छा लगे तो ग्रहण कर लेना ,यदि नहीं ,तो छोड़ देना ,तो मेरी सलाह है की आप अपना विशेषाधिकार ( वोट )ऐसे व्यक्ति को बिलकुल मत देना चाहे वो कोई भी हो ,
और एक बात बता दूँ पार्टी कोई भी खराब नहीं होती चाहे नै हो या पुरानी झूठे ,बेईमान ,भ्र्ष्टाचारी होते हैं ये नेता जिनको आपने वोट करनी है ।
तो वो निम्नलिखित व्यक्ति हैं
अशिक्षितं =, अर्ध शिक्षित ,क्योँकि वो अपने सामने किसी भी शास्त्र या ज्ञान अथवा सलाह को नहीं समझ सकता ,और नाहीं वो  विधान सभा या संसद में जाकर आपके लिए कुछ कर सकता ।
असत्यभाषी=   ,झूठ बोलने वाला नेता आपको कुछ भी नहीं दिला सकता ,वो खुद को खुदा से कम  नहीं समझता । 
वायदों से मुकरने वाला ,=चुनाव के वक्त तो वायदे पर वायदे करता हो और बाद में मुकर जाता हो या भूल जाता हो अथवा गौर ही ना करता हो ।
फेंकू और जुमलेबाज =   लम्बी लम्बी फेकने वाला ,बिना मतलब की बातें घोटने वाला ,जुमले सुनाने वाला ।
अहसान फरामोश = जो आपके दिए वोट का अहसान भी ना मानता हो ।
 धार्मिक भावना=जो जनता की धार्मिक भावनाओं को भड़काकर ,दंगे फसाद कराने वाला ।
तानाशाह  = जो अपनी ही अपने चलाता हो ,जनता को पैर के   अंगूठे पर रखता हो ,आपकी भावनाओं की कदर ना करता हो ।
हितैषी = जनता का हितैषी ना हो ,अपनी ही दाढ़ी में घस्सा  लगाता हो ,जनता से विश्वाश्गात करता हो ।
पैसे को बहाता हो = जी हाँ जो आपकी गाढ़ी कमाई पर ऐश करता हो । 
राजनीति ज्ञान =  राजनीति से अज्ञान हो ,चाणक्य जैसा निपुण ना हो ।
आर्थिके  स्तिथि =देश की आर्थिक स्तिथि का ज्ञान ना हो ,वार्ना देश की आर्थिके स्तिथि को भी खराब कर देगा
देश द्रोही = देश के प्रति वफादार ना हो ,।
बाकी जो रह गए हों वो आप भी कुछ सोच लेना ,धन्यवाद ,

Saturday, February 4, 2017

bhajpa 375 ,U P me

भाजपा ने उत्तर  प्रदेश में ३७५ सीटों पर टिकिट दिए परन्तु एक भी मुस्लमान को टिकेट नहीं ,जानते हो क्योँ ?क्योँकि वो जानते हैं की मुसलमानो ने उनको वोट ही नहीं देना ,सबसे बड़ी सेक्युलर पार्टी भाजपा ,हिन्दू ,मुस्लिम भाई  भाई " हिंदुओं को दिए टिकेट ,मुस्लिमों को लोली पॉप खिलाई "
उन हसीनों के दड़बे पे जा सजदा क्या करना
जहाँ ,खुद की निगाहों में चरित्र हनन हो जाए 

Wednesday, February 1, 2017

nalle ko neta bana do bas fir dekho chmtkar

मेरे प्यारे ,मित्रो ,बन्धुओ ,और फेसबुकियों ,मैं  आपको एक नेक और अच्छी सलाह देना चाहता हूँ जब हम ,आप और किसी पडोसी का बेटा ,भाई इतना बिगड़ जाये और उलटे सीधे ऐसे काम भी करने लगे जिसके कारण समाज में मान सम्मान भी जाता रहे या जाने का खतरा हर वक्त बना रहे ,जैसे की आवारा गर्दी करना ,काम धाम बिलकुल नहीं करना ,यानी की निकम्मा और निठल्ला होने के बावजूद शराब ,सिगरेट ,गुटखा खाना और पीना ,और गन्दे लोगों से दोस्ती रखना और आपके लाख कोशिश करने के उपरान्त भी नहीं बदलना
अपने घर में ही चोरी चकोरी करना आदि आदि ,
तो मित्रो उसको आप नेता बना दो और कुछ थोड़ा बहुत उसपर खर्च कर दो ,घर से खुली छुट्टी दे दो बोलो की वो कुछ भी करे हमको एतराज नहीं है और जब भी घर में आये अकेला या दो चार दोस्तों के साथ उसकी और दोस्तों की खूब सेवा करो ,
फिर देखना वो क्या गुल खिलाता है ,अपना और आपका और सम्पूर्ण खानदान का नाम रोशन कर देगा ,कुछ दिन बाद  सभी लोग आपके यार दोस्त रिश्तेदार उसको भी और आपको भी मान सम्मान देने लगेंगे और धन से तो आपको मालामाल कर ही देगा ,
ऐसा मैं इसलिए कह रहा हूँ की जो उपरलिखित गुण उसमे हैं वो सभी होनहार नेताओं में पाए जाते हैं
अब आप मेरा आशय समझगे ही गए होंगे