Wednesday, June 29, 2016

मैंने तुम्हें कभी चाहत  भरे दिल से नहीं देखा
तू रूह है मेरी ,बस इतना कद्रदान हूँ  मैं तेरा ।

Monday, June 27, 2016

janaja

हमने देखा
किसी का जनाजा
निकल रहा था
तो हमने पूछा
मियाँ ये जनाजा
किन साहब का है
तो विसने कहा
ये जनाजा
नवाब वसीउल्ला खां का है
तो हमने कहा कि
वो तो बड़े पैसे वाले थे
उनका तो सारे जहां में नाम था
तो वो बोला क्या मियाँ
पैसे वाले लोग नहीं मरते
नहीं वो क्योँ मरेंगे
वो तो पैसे से
सब कुछ खरीद सकते हैं
जिंदगियां खरीद लेते हैं
फिर क्या अपने लिए
एक जिंदगी ना खरीद सके

vkt badalte der nahin lagti

पैसा आया ,मान मिला और
साथ बहुत सी लाया सौगात
भाई बंधुओं को रास आया
बन गए सभी कुंवर प्रताप ,
ठंडी सभी की खत्म हो गई
आ गया सभी में उच्च ताप
कद सभी का बड़ा हो गया
तो भूल गए अपनी ओकात ,
किसी को  भी बड़ा न समझे
सबसे ऊंचे बन गए वो आप
जो भी  उनके सामने बोलता
बता देते उस बेचारे को जात ,
वक्त ने एक दिन पलटा खाया
सबकुछ ले गया अपने साथ
जिसे भी मिलते मुंह फेर लेता
चाहे कितना ही करें प्रलाप ।

Friday, June 24, 2016

तीर तो हमने भी चलाये बहुत
मगर निशाने पर एक भी न लगा
इसे अपना भाग्य कहूं या नाकामी
मुफ्त में बदनामी का ख़िताब मिला ।

Tuesday, June 21, 2016

अमावस्या की काली रात्रि में
कोई मेरा आँचल थामे या ना थामे
पर मैं अपने  संयम के बल पर
पूर्णमासी को प्राप्त करके रहूंगा ।

Monday, June 20, 2016

 वक्त किसी को नहीं मारता
क्योँ उसे बदनाम  करते हो
जब कुकर्म करते हो तो
क्या वक्त से भी पूछते हो ।

Saturday, June 18, 2016

इब्तदा  ऐ इश्क़ में हम सारी रात जागे
अल्ला जाने अब क्या होगा आगे आगे

Monday, June 13, 2016

AMIT SHAH JI KI JUBANI BHRSHTACHAR KI KAHANI

अलाहाबाद में भाजपा अध्यक्ष श्री अमित शाह जी ने कहा की २ साल से केंद्र  में हमारी सरकार है पर हम पर एक भी दाग नहीं ,
पहली बात तो ये है की इससे बड़ा सफ़ेद झूठ और कुछ हो ही नहीं सकता ,की जिनके खुद के आँचल में कितने दाग लगे हैं वो ऐसी बात कह रहे हैं ,तो इसी संदर्भ में पढ़िए

दागों की कमी नहीं है
फिर भी बेदाग़ हैं हम
क्योँकि हम सार्वभौम हैं
और सत्ता भी हमारी है
अभी तक तो सी बी आई
और रा  ही हमारी थी
और मीडिया भी हमारी थी
 सी आई सी ,सी वी सी चुप है
अब न्यायपालिका की बारी है



Saturday, June 11, 2016

ghoda

जिसने भी मुझे देख लिया
वो ही मंत्र मुग्ध हो जाता है
 रंग भेद की कोई नीति नहीं
सभी रंगों में मुझे चाहता है ,
धीरे धीरे वो मुझे सपर्श कर
फिर पीठ को  सहलाता है
फिर स्टेयरिंग को हाथ में ले
हवाई जहाज सा उडाता  है ,
पर बन्दा भी सतयता से
उसका पूर्ण साथ निभाता है
जैसा वो मुझसे  चाहता है
वैसा ही उसे कर दिखाता है ,
इसी लिए शूरवीरों के साथ
मेरा नाम भी जुड़ जाता है
हीरू ,मगरू ,चेतक गबरू
 नामों से नवाजा जाता है ,
 मेरी ही गति का माप यंत्र से
नाता जोड़  दिया जाता है
वाहन  गति  का आंकलन
हॉर्स पावर में बताया जाता है ,
मैं कभी भी बूढ़ा नहीं होता यदि
 दाना पानी समय पर मिल जाता है
ऐसी कहावत है संसारं में
गर्न्थों में भी वर्णन आता है ।








Monday, June 6, 2016

धरा का  जिसने भी ह्रदय से सम्मान किया किया है
विश्वास कीजिये उनका शीश कभी शर्म से झुका नहीं ।

Wednesday, June 1, 2016

रिश्ते भी कितने अजीब होते हैं
जिनके चेहरों पर हंसी देखकर
हम फूल कर कुप्पा हो जाया करते थे ,
आज वो हमारी आँखों में आंसू देखकर
खुद को हमारा भगवन बता रहे हैं ।