Wednesday, September 27, 2017

Tuesday, September 26, 2017

तलवे चाटने वालों से सदा सावधान रहना वो कभी भी आपके पैरों के नीचे से जमीन निकल सकते हैं



छोटा आदमी कभी बड़े मौके   पे काम आता है परन्तु बड़ा आदमी छोटे से मौके पर भी ओकात  दिखा  जाता है


सच को तमीज नहीं बात करने की ,झूठ देखिये कितना मीठा बोलता है


     

Tuesday, September 19, 2017

kahawat

नकटी गला फाड़कर चिल्लाती घूम रही है
और शर्मदार घर में मुंह छिपा के रो रही है ,
पहली पंक्ति में भाजपा
दूसरी पंक्ति में कांग्रेस 

sher

किसी की जिंदगी को तबाह करके
कहते हो कि  मैंने किया ही क्या है
इसके बावजूद खुद को वफादार जान
उसको कह दिया की तू तो बेवफा है 

Monday, September 18, 2017

 ई बिलिंग प्रारम्भ पहली अक्टूबर से ,

जो १० एक २० %  व्यापार अभी चल रहा है वो भी १स्ट अक्टूबर से खत्म हो जायेगा क्योँकि ई बिलिंग शुरू होगी  

Sunday, September 17, 2017

sher

मुहब्बत के दुश्मनों को
जनाजे से भी दूर रखना,
वरना वो कफ़न फाड़कर
भौंकने ही लग जाएंगे | 

Wednesday, September 13, 2017

मन रे तू अब कहीं और चल ,
भौत देख्यो मोदी का देश
बदल रहा नित्य नया परिवेश
झोली लेकर बन जा अब दरवेश


Tuesday, September 12, 2017

kyaa kare janta

उस नेता का हम क्या करें
जो बिना नाक का नेता हो
कहाँ कितनी दुर्गंध आ रही 
ज़रा भी सूंघ ना पाता  हो ,
जीभ तलुए से है चिपक रही
इसी लिए  बोल ना पाता  हो,
आँखों से भी देख ना पाता हो
काला चश्मा जो लगाता हो ,
जनता हेतु ऐसे  काम किये
जिससे रोज गालियां खाता हो
जनता का सर्वस्व छीनने हेतु
नित नए लॉय पॉप खिलाता हो |  ,

Thursday, July 20, 2017

modi ji jaisaa koi nahee

satire
मोदी जी जैसा देश भक्त ,
गरीबों का मसीहा
सादा जीवन उच्च विचार
संस्कारी और सनातनी
बाल ब्रह्मचारी
सत्यभाषी
नापी तुली भाषा का प्रयोग करने वाला
सम्पूर्ण देश को अपना परिवार मानने वाला
५६ इनचेस सीना
परिवार से प्रेम करने वाला
कोई भी नेता या व्यक्ति कम से कम भारत में तो आज तक पैदा नहीं हुआ और नाही भविष्य में कभी होगा इसका मतलब मोदी जी प्रथम और अंतिम व्यक्ति होंगे ऊपर लिखित सर्वगुण सम्पन्न

Wednesday, July 19, 2017

DHARMIK UNMAD

देश में कुछ असामाजिक तत्व हिन्दू और मुस्लिम दोनों को ही भड़काने ,लड़ाने में  प्रयत्नशील हैं ,कभी हिन्दुओं पर तो कभी मुस्लिमों पर या कभी दलितों पर छींटाकशी की जा रही हैं जिसका परिणाम अच्छा नहीं होगा और जिस दिन कुछ बुरा होगा या होने लगेगा उस वक्त ये सभी लोग चूहे की भांति अपने बिलों में घुस जाएंगे और देश का माहौल ख़राब हो जाएगा हम लोगों में से किसि का कोईं ना कोई नुक्सान या फिर सरकारी नुक्सान क्योँकि शैतान तो लगभग सभी स्थानों  में सभी धर्मों में मिल जाएंगे जो की यमराज की भांति इसी ताल में लगे रहते हैं कि  कहीं कुछ हो और वो अपने हाथ सेंके,
तो भाइयों ऐसा काम मत करो ताकि देश में बद्मिनी फैले   

OPPOSITION NE G S T KA VIRODH NAHIN KIYA

देश में जी एस टी को गरीब जनता पर,  जितनी  मोदी सरकार जिम्मेदार है उससे कहीं ज्यादा देश की सभी पार्टियां जिम्मेदार हैं क्योँकि लगभग सभी पार्टीज में से किसी ने भी इसको लगाने का पूर्णत; विरोध नहीं किया देश में विपक्षी पार्टीज में से एक दो को छोड़कर सभी की हाँ थी ,कोई विरोध नहीं था विरोध का मतलब होता है जिस प्रकार से यु पी ऐ के कार्यकाल में अल्पमत में होते हुए भी भाजपा ने जी एस टी को देश में लगने ही नहीं दिया परन्तु आज देश की लगभग  १ ८ पार्टीज मिलकर भीम कुछ ना कर सकी और जनता को एक नए बोझ में दब जाने दिया  ,शायद ये पार्टीज सोच रही होंगे की भाजपा तो २ साल की है उसके बाद तो वो खुद ही देश को लूटेंगे  |
और अब जब जी एस टी पारित हो गया है तो कुछ पार्टीज मात्र नाटकबाजी कर रहीं है ताकि जनता को भुनाया जा सके ,परन्तु ये जनता है की सब कुछ जानती है |  
२०१९ में जीतना है तो

२०१९ में यदि मोदी जी दोबारा प्रधानमंत्री बनना चाहते हैं तो उनको बस एक काम करना पडेगा ,
उनको चाहिए कि वो चुनावों में केवल सरकारी कर्मचारियों और वो भी केंद्रीय सरकारी कर्मचारियों के वोट डलवाएं क्योँकि  से देश में बस सरकारी कर्मचारी ही रहते हैं इसलिए वो उनपर ही मेहरबान हैं ,आये दिन उनकी तनखायें बढ़ती रहती हैं और अब तो मोदी जी की कृपा से देश में सभी न्यायालयों के जजों की सैलरी भी सीधे ही ९० हजार से बढ़ाकर २लाख ५०हजार करने जा रहे हैं
यदि वो ऐसा करते हैं तो उनको  ई वी एम्  की भी जरूरत नहीं पड़ेगी ,उनको बस एक कानून पास कराना है और वहां उनकी मेजोरिटी है ही और अब तो मुहर लगाने के लिए आदरणीय राष्ट्रपति भी उन ही के होंगे
अंत में मोदी जी से हाथ  जोड़कर प्रार्थना है की ज़रा वो अपनी नजर घूमकर आम जनता को भी देख लें वैसे देख तो रहे ही हैं परन्तु उनका तो वो खून की आखिरी बून्द भी निचोड़ लेनी चाहते हैं|  

G S T SE TRAHI TRAHI

जी एस टी के कारण आज सम्पूर्ण देश में महंगाई के कारण त्राहि त्राहि मच रही है ,दवाई वालों के पास जाओ तो दवाई नहीं है ,कपडे वाले के पास जाओ तो कपडे नहीं यदि हैं भी तो बहुत महँगे हैं जो शर्ट जून माह में ८५० रूपये की थी वो अब १२०० रूपये में मिल रही है आटा  दाल सब्जियां सभी में आग लगी हुई है ,
दुकानदारों से बात करो तो कोई सीधे मुंह बात ही नहीं करता क्योँकि उनके पास स्टॉक नहीं है और पीछे से जो माल आ रहा है वो बेइंतहा महंगा है ,दुसरे वो कहते हैं हमको जी एस टी की रागमाला समझ ही नहीं आ रही ,कुछ लोग तो अपनी दुकाने बंद करने पर ही तुले हुए हैं ,
अब तो जनता खुद को खुद ही लुटा पता समझ रही है ,जनता पर बहुत भरी बोझ है जी एस टी का ,
जेटली जी जिस जनता को आज आप लूट रहे हो कल को ये ही जनता वोट देगी बस ये बात याद रखना | 
जिस मकां में महफूज थे अब तक
आज वो खौफ जदा हो गया है
अब क्या उन  पत्थरों पर मत्था मारें
जिन्होंने अब से पहले शकुन दिया है
जिसे कभी घर का मुखिया चुना था
आज वो ही  शैतान जो बन गया है 

Tuesday, July 18, 2017

दिन में कई कई बार
कपडे बदलने से ही
कोई अच्छा नहीं बन जाता,
मात्र लंगोटी  में रहकर
जो अच्छा काम करतें हैं
उनको लोग महात्मा कहते हैं | 

जिस व्यक्ति को हम
इंसान समझा करते थे कभी
आज उसके बरतने पर जाना
वो तो शैतान का भी बाप निकला

आम आदमी से
ख़ास आदमी होकर भी
जो बदल ना सका खुद को
भरोसा भी  क्या करें उसका | 
मत जलाओ इस देश को
अपनी  नुमाइंदगी दिखाने के लिए
बामुश्किल इसे बरसों से
संजो कर रखा है अपने भाल पे |  

Monday, July 17, 2017

आशियाने जल जाते हैं
विरह की आग में 
तप्ति  दोपहरी में
ठंडक प्रतीत होती है
प्रेयसि के आगोष में

Sunday, July 16, 2017

यदि  मनमानी करके हमारे देश का कोई भी शासक ,हमारी धन दौलत, जमीन जायदाद, जमीर और  इज्जत भी छीन लेगा तो हम भारतवासी उफ़ नहीं करेंगे परन्तु  देश की आन पर आंच आई तो हम किसी को भी नहीं छोड़ेंगे चाहे वो देशी हो या परदेशी |
देश की जनता   

satta ka nasha

किसी देश का राजा बहुतं  अत्याचारी था ,वो अपनी जनता पर मनमाना टैक्स लगाता था यदि वो न यहीं दे पता तो सजा नहीं बल्कि सजाये मौत ,यदि सैनिक सर उठाता तो उसे भी सजाये मौत ,कोई राजा की आलोचना करता तो सजाये मौत ,कोई राजा की बात  नहीं मानता तो सजाये मौत ,कोई उसकी सवारी के आगे से निकल जाता तो सजाये मौत ,कोई राजा के खिलाफ सर उठाता तो सजाये मौत ,इस प्रकार राजा ने लाखों लोगों का कत्ल कर दिया और राज करता रहा <
एक दिन उसके राज्य में एक साधू आये तो जनता ने उनको चुपचाप अपने अपने दुखड़े सुनाये और कहा महाराज हमको इस दुराचारी ,घमंडी राजा से बचाये ,
साधू ने कहा मैं  प्रयत्न  करूंगा और उसके बाद वो साधू सीधा राजा के दरबार में पहुंचा और राजा से अपनी बात रखने की विनती की ,
तो राजा ने कहा की आप विनती करिये परन्तु ये ध्यान रखियेगा की मेरे राज्य में प्रत्येक गुनाह की सजा ,सजाये मौत है ,
साधू ने कहा की ठीक हैं उसने राजा से विनती कर कहा की हे राजन तुम जितने भी निर्दोष लोगों का कत्ल कर रहे हो ,वो सभी एक दिन आपसे बदला लेंगे
राजा  ने कहा बस यही कहना था क्या ,?
जी राजन
तो सुनिए अब तक मैं लाखों लोगों का कत्ल करवा चुका हूँ यदि ये मुझसे बदला भी लेंगे तो एक साथ मिलेंगे कैसे कोई किसी योनि में जाएगा कोई किसी योनि में और यदि एक एक करके बदला लिया भी तो मुझे लाखों जन्म कौन देगा ,ओर जोर जोर से हंसने लगा और बोलै साधू तेरी सजा ये   है की तुम यहां से  जाओ और फिर कभी  दिखाई मत देना
साधू ने कहा ठीक है राजन हम एक बार फिर मिलेंगे और तब बात करेंगे |
समय गुजर गया राजा मर गया और उसने हाथी का जन्म ले लिया और  किसी एक व्यक्ति ने   खरीद लिया और वो उस हाथी से पूरे दिन लक्कड़  ढुलवाता और रुक जाने पर उसके माथे पर अंकुश से  करता ,कुछ दिन के बाद उसमे घाव हो गया और कीड़े पड़ गए ,अब  वो हठी सारे दिन सर हिलाता रहता और
एक दिन वो साधू हाथी   के सामने पहुंचे और बोले राजन क्या हाल है
वो सर हिलाता रहा ,तो साधू बोले राजन मुझे पहिचाना ,
तो हाथी ने सर हिलाया
तो साधू बोला की राजन आज तेरे सर में जो कीड़े कुलबुला रहे हैं ये वो ही व्यक्ति हैं जिनको तूने निर्ममता से मारा था और गिन सके तो गिन ये पूरे इतने ही हैं और एक साथ मिलकर तुमको कचोट कचोट कर खा रहे हैं और तू बेबस है
बोला महाराज मुझे किसी प्रकार बचाओ , तो साधू ने कहा की जब इनका बदला पूर्ण हो जाएगा तो तुझे मौत आएगी उससे पहले नहीं |
अब सत्ता के नशे में चूर   नेताओं को भली भांति सोच लेना चाहिए उनका हाल भी ऐसा ही होगा तुम्हारे प्रत्येक कर्म का फल मिलेगा | 
 









Saturday, July 15, 2017

jo jitna hnsega utna royega bhi

आज देश की जनता रो रही है
भाजपाई हंस रहे हैं ,
फिर देश की जनता हँसेगी और
सब भाजपाई मिलकर रोयेंगे
जब कोई अन्य पार्टी जीत जाएगी
और भाजपाई हार जाएंगे
जब उस नै पार्टी की सी बी आई तोता
इनसे  सवाल करेगी और ये बगलें झाकेंगे | 

kahaawat

कहावत है कि
मारने वाले के हाथ पकड़ कर रोक सकते हो परन्तु भौकने वाले की जुबान नहीं "
अब भाजपाई भौंकते रहते हैं और हम चुपचाप देखते रहते हैं क्योँकि हम या देश की जनता  उनकी जुबान तो पकड़ नहीं सकती
२२ महीने और काट लेंगे रो पीट कर , 

Friday, July 14, 2017

ab to videshi mat kaho

विदेशियों की गुलामी करने वालो, अंग्रेजों का हुक्का भरने वालो ,उनकी जूतियों में पड़े रहने वालो  ,और अंग्रेजी राज में रायबहादुर की पदवी प्राप्त कर ऐश की जिंदगी व्यतीत करने वालो ,अब तो सोनिया जी को विदेशी महिला मत  कहो ,आप से ज्यादा देश भक्ति है उनमे ,और आपसे अच्छी हिंदी भी बोल लेती हैं ,देश की खातिर प्रधानमंत्री की कुर्सी को त्याग देने वाली शायद ही संसार की वो पहली महिला होंगी
वैसे भी हिन्दू रीति के अनुसार किसी भी धर्म की महिला यदि किसी दुसरे धर्म के व्यक्ति से शादी कर लेती है तो वो उसी धर्म की हो जाती है इस हिसाब से राजीव गाँधी से शादी करके वो भी हिन्दू हो गई ,फिर शिकवा किस बात का ,क्या मात्र राजनितिक रोटियां सेंकने के लिए |
लानत है ऐसे देसभक्तों पर जो किसी महिला को  सम्मान देना तो दूर की बात, उलटे उसके सम्मान को छीनने का प्रयत्न करते हैं जब की हिन्दू धर्म में कहा जाता है की "नारि त्वं सर्वं पूजयते "फिर चाहे वो समस्त भू पर किसी भी देश की ही नारी  क्योँ ना हो ,

asaamajik ttv

गांधी ,नेहरू ,अब्दुल कलाम आजाद ,या सुभाष चंद्र बोस ,इनमे से किसी के लिए भी अभद्र भाषा या अभद्र टिप्पड़ी करना अथवा उनके निजी संबंधों की किसी के भी साथ लांछनीय व्याख्या करना किसी अच्छे हिन्दुस्तानी के लिए शोभा नहीं देता,
प्राय देखा गया है की फेसबुक पर कुछ महानुभाव इन जैसे देश समर्पित नेताओं पर अजीब अजीब प्रकार के लांछन और सेक्स स्कैंडल तक से जोड़ने का प्रयत्न करते हैं जोम की अशोभनीयं है ,
कृपया अपने संस्कारों की आहुति ना दें 

suvichaar

जिस दिन आप कुविचारों ,दखियानुसीपन ,नकारात्मक सोच ,ईर्ष्या  धनलोलुपता और जिभ्या पर पूर्णतया विजया प्राप्त कर लोगे उसके बाद आपका भविष्य स्वर्णकालीन स्वत्: ही हो जाएगा 

Friday, July 7, 2017

MODI JI BANAM ORNGJEB

मोदी जी ने तो टैक्सेज के मामले में ओरंगजेब को भी मात दे दी  फर्क मात्र इतना है की ओरंगजेब ने केवल हिन्दुओं पर टैक्स लगाए थे परन्तु मोदी जी ने हिन्दू ,मुस्लिम ,ईसाई सभी पर मनमाने टैक्स लगा दिए और अब सबका बाप टैक्स जी एस टी लगा दिए
यदि आप हिसाब लगाएंगे तो सभी प्रकार के टैक्स डायरेक्ट & इन डायरेक्ट मिलाकर आपकी कमाई से ज्यादा देने पड़ते हैं इसी कारण भारतवर्ष की जनता उन्नति नहीं कर पाती ,

DESH ME SARKAR DESHI YA VIDESHI



देश में सर्कार देशी या विदेशी
क्यां कोई बताएगा कि ?
जो मोदी या भाजपा सरकार  वर्तमान में सत्ता में है क्या ये हमारे देश की ही सरकार है या विदेश की है ,
क्योँकि हमारे प्रधानमंत्री अधिकतर विदेशों में ही रहते हैं और वहाँ की विचार धारा और शासन करने का तरीका वहीँ से शायद सीखकर आते हैं और जैसे ही देश में आतें हैं कोई न कोई नया  शगूफा छोड़ देते हैं और फिर उस शगूफे से जनता को परेशान करके या परेशानी में छोड़कर और अपने पिछवाड़े वालों को समझा बुझाकर फिर विदेश भाग जाते हैं
वैसे भी वो ज्यादातर खरीदारी भी विदेशों से ही करते हैं जैसे काफी माल चीन से आता ही रहता है दुश्मनी भी है और व्यापार भी हो रहा है यही पाकिस्तान के साथ भी हो रहा है और भी दुनिया भर के कलपुर्जे ,जेट ,हवाई जहाज ,ड्रोन कपडे ,चावल दालें ,विदेशों से ही आ रही हैं जबकि हमारे देश में भी  इन सबकी कमी नहीं है  फिर भी विदेशी माल ,शायद उनको अपने देश में निर्मित या पैदा हुई वस्तुओं से खास प्यार नहीं है ,फिर भी देश के सबसे बड़े देश भक्त कहलाते है उनके अंध भक्तों के द्वारा |
में  तो उनको एक ही सलाह दे सकता हूँ की वो अपना  परमानेनेट दफ्तर  कही यूरोप या फिर एशिया अथवा अमेरिका  में ही  बना लें कम से कम आने जानें का करोड़ों रुपया तो खर्च नहीं होगा ,देश तो पिछवाड़े वाले चलाते ही रहेंगे
बस आप एक बार २०१९ में चुनावों के वक्त आ जाना और E V M से चुनाव कराकर ,जीतकर फिर अपने दफ्तर में पहुँच जाना ,

Sunday, June 25, 2017

पिछले ३ साल से हम
आग बुझाने की कोशिश कर रहे हैं ,
पर एक वो हैं कि
हनुमान जी की भांति
लंका को नहीं ,
समस्त हिंदुस्ता को
आग लगाने का भरसक
प्रयत्न करते जा रहें हैं 
देश की ४०% जनता की पुकार ,
====================
एक वोट देकर हमने मोदी को
अपनी जिंदगी गिरवी रख दी
यदि भारत के संविधान में कुछ है
तो इस बार बचा दो हमारी जिंदगी
फिर कभी भी ऐसी गलती नहीं करेंगे
वोट देने से पहले हजार बार सोचेंगे |  
सभी मुस्लिम भाइयों को ईद मुबारक
हम आप सभी मुस्लिम भाइयों से आशा करते हैं की आप  इस ईद जैसे पावन  पर्व पर हिन्दू मुस्लिम एकता को
सुदृढ़ करने का भरसक प्रयत्न करेंगे |  

Thursday, June 15, 2017

Wednesday, June 14, 2017

MATR HNSIYE OR MUSKURATE RAHO

बाग़ में जाने पर ,
कलियों को देखकर
अक्सर लोग मुंह बना लेते हैं ,
परन्तु खिला फूल देखकर
उसे चूम लेते हैं या
फिर सूंघ भी लेते हैं और
अपनी शेरवानी में लगा लेते हैं
जानते हैं क्योँ ?
क्योँकि वो खिल रहा है ,हंस रहा है
और प्रत्येक व्यक्ति ,हंसी चाहता है
मुस्कराहट चाहता है और
उसके रंग रूप सौंदर्य और
उसकी सुगंध संलिप्त हो
अपने दुःख दर्दों को
बस भूलना चाहता है |
इसलिए भाइयो हँसते रहो
मुस्कुराते रहो और
अपने आस पास वालों को
सकून  और चैन लुटाते रहो |

Wednesday, May 24, 2017

संसार में जितने मनुष्य प्रक्र्तिवश अंधे हैं ,उससे कितने ही गुना स्वार्थ वश अंधे हैं ,प्रकृतिवश अँधा व्यक्ति इस संसार की प्रत्येक वस्तु ,जीव जंतु जानवर सहित भाई बंधु पिता माता सभी से अगाध प्रेम करता है ,परन्तु  स्वार्थवश  अँधा व्यक्ति अपने सिवाय इन सभी में से किसी  को भी प्यार नहीं करता,और यदि करता भी है तो उसे जिससे उसकी स्वार्थसिद्धि हो जाए |  

Sunday, May 21, 2017

MODI JI NE KAHA

मोदी जी ने कहा कि बिना पढ़े लिखे देश कराते हैं बैलट पेपर से वोटिंग,
कितना अटपटा लगता है अपने देश के प्रधानमंत्री जी के मुख से सुनकर ,जब कि वो खुद डिग्री धारी नहीं है ,
मेरे विचार से बिना पढ़े लिखे राष्ट्राध्यक्ष  ही करातें हैं E  V  M से वोटिंग
क्या ख्याल है आपका भाइयो 

Saturday, May 20, 2017

हम भी किसी से पर्दा करें ही क्योँ
जब सभी यहां बेपर्दा हो गए हैं |



कोई भी नहीं पूछता कि
क्या हाल है हमारा
गर कोई पूछता भी है तो
वो भी है हमारे जैसा बेचारा |


हम बंदिशों के बावजूद भी
आजाद पंछी ही बने रहे
जवानी भर उड़ते  रहे और
बुढ़ापे में संजीदगी में खो गए |

Tuesday, May 9, 2017

bhajpa ka bhouktntr padhiye

अरबों रूपये के घोटाले वाली पार्टी और करोडो रुपये की घोटाले वाली पार्टीज़ के   प्रवक्ता उस चैनल का ऐंकर  सभी मिलकर बिके  हुए चेनल्स पर लोकतंत्र की तरह बात करने क बजाये भौंक तंत्र को बढ़ावा देते हुए ,
कपिल मिश्रा के द्वारा अनावश्यक २ करोड़ के आरोप को जो कि  उसने सत्येंद्र जैन और केजरीवाल पर लेन  देन  करते हुए देखने का लगाया है सिद्ध करने में लगे हुए हैं ताकि उनकी e  v m  की   डकैती से जनता का ध्यान हटाकर ,केजरीवाल को बदनाम किया जाए ,इससे साफ़ जाहिर है की भाजपा सरकार के सार्वभौम केजरीवाल (यानी देश की 3rd पार्टी जो इनको कुकरम करने से रोक रही है )उसे नष्ट भ्र्ष्ट करना चाहते हैं ,परन्तु भाजपाइयों ये मत भूलो तुम्हारा नंगा नाच और ड्रामा जनता सब देख रही है ,अब इसका सबक २०१९ के चुनावों में ही पता चलेगा जब तुम्हारा e  v m  नहीं होगा यदि चुनाव आयोग  ने चाहा तो ?
और इतना भी जरूर है की भाजपा और मोदी जी के रात को आने वाले सपनों में केजरीवाल के सिवाय शायद कुछ नहीं होता |
जब बहुत ंसारे समूह में झूठे इंसान एक ईमानदार आदमी के पीछे पद जाते हैं तो उनकी कायरता नजर आती है
भौंक तंत्र को अवश्य  पढ़िए  | 

Thursday, May 4, 2017

आज  हम जो भी बो रहे हैं
कल वो ही काटने को मिलेगा
इसलिए आज से ही अच्छा बोओ
ताकि कल अच्छा ही काटने को मिले | 

Wednesday, May 3, 2017

हम अपनी लंगोटी
छीन जाने का शिकवा किस्से करें
यहां तो सभी कपडे होने के बावजूद
नंगे ही ,और  नंगेनंग, नजर आते हैं 

Monday, May 1, 2017

यारी करो ऐसी करो जैसे लुटिया नीर ,
अपना गला फंसाये के लावे नीर झकोर |




मनुष्य को चन्दन की भांति होना चाहिए क्योँकि वो अपनी शीतलता से सर्पों को भी सुख शांति प्रदान करता है ,और जब कोई व्यक्ति उसको अपने मस्तक पर तिलक स्वरूप धारण करता है तो उसे भी पूर्ण शीतलता प्रदान कर सुख की अनुभूति कराता है ,यानी की दुष्ट और सभ्य के साथ एक जैसा ही व्यवहार करता है ,परन्तु आज के मनुष्यों में इस गुण की भरी मात्रा में कमी है | 

Friday, April 28, 2017

हमने नसीब वालों को भी
बदनसीबी के नाम पे रोते  देखा है
और खुद को खुदा कहने वालों को भी
खुदा से मन्नतें मांगते हुए देखा है |

prtibha

प्रतिभा ,
प्राय प्रत्येक व्यक्ति के अंदर कोई ना कोई प्रतिभा होती है परन्तु वो पूर्णत: छिपी होती है क्योँकि वो व्यक्ति उसका उपयोग नहीं कर पाता क्योँकि वो उसकी उपयोगिता से परिचित नहीं होता और वो शंकालू बना रहता है और जो व्यक्ति हिम्मत करके अपनी उस प्रतिभा का मूल्यांकन करके उसका उपयोग करना प्रारम्भ कर देता है तो वो देश का कोई महान  लेखक ,कवि ,नेता ,अधिकारी ,चित्रकार और जो भी प्रतिभा के अनुरूप होता है बन जाता है और फिर संसार में सूर्य की भांति चमकता रहता है ,
तो भाइयों मेरा कहने का अभिप्राय है की हम आप सभी व्यक्तियों को अपनी विलुप्त प्रतिभा को उजागर करना चाहिए ताकि उससे देश और समाज और स्वयं का भी विकास हो सके |
कांति प्रकाश चौहान

Wednesday, April 26, 2017

aatm mnthan

पिछले ३ साल से भारतीय लोकतंत्र की धज्जियां उड़ाई जा रहीं हैं परन्तु कोई ना कुछ बोल रहा है ,ना सोच रहा ,और नाहीं आत्ममंथन कर रहा है ,परन्तु अब समय आ गया है की इसपर सभी बुद्धिजीवियों को सोचने ,आत्ममंथन करने हेतु समर्पण करना पडेगा वरना तो देश एक बार फिर गुलामी ,आपातकाल की यादें ताजी कर देगा ,
बेईमानी ,बेईमान और असत्यभाषी व्यक्ति को शिखर पर लेजाकर धक्का देती है ताकि वो बच ही ना सके और बचाने  वाला भी ना मिले ,  k p chauhan

ANGINAT

आजकल देश में नेताओं ,ज्योतिषियों ,बाबाओं ,और आयुर्वैदिक  डॉक्टर्स की बाढ़ सी आई हुई है ,ऐसा कोई घर अछूता नहीं होगा जहां ये लोग उपजे ना हों अब पता नहीं ये सब मिलकर इस देश का क्या हाल करेंगे ,हमारे देश का तो ऊपर वाला ही मालिक है



हमारे सैनिक रोजाना  शहीद हो रहे है कहीं नक्सली मार रहे हैं, तो कहीं पाक के आतंकवादी,मार रहे हैं ,और कभी कभी चीनी सेना भी माँर जाती है ,और अब तो कश्मीर में भी शहीद हो रहे हैं ,ज़रा उनसे पूछिए जिनके लाल ,माँ बाप भाई ,पति ,और सहारा हैं उनपर क्या बीत रही होगी ,परन्तु सरकार और प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री का प्रीतिदिन एक ब्यान जारी कर दिया जाता है की शहीद हुए सैनिकों की शहादत बेकार नहीं जायेगी ,भाइयो हमको भी तो बताओ वो कब काम आएगी उनकी शहादत ?

Tuesday, April 25, 2017

सांप भी अपने बिल में सीधे होकर घुसते हैं परन्तु हमारे देश के नेता अपने घर में भी टेढ़े  घुसते हैं |


जब सर्वनाश का साया मंडराता है तो आदमी मि जुबान लम्बी हो जाती है |


अच्छे और भले कार्य करने वाला इंसान दुनिया की नजरों में ही अच्छा नहीं बनता बल्कि उसकी स्वयं की आत्मा भी उसे भला पुरुष कहती है |


कहते हैं असल से सूद ज्यादा प्यारा होता है ,इसीलिए कहावत है कि "भैया से भतीजा प्यारा ,सबसे प्यारा साला ,
गन्ने से गनीली प्यारी उससे प्यारा राला "
धन से सबकुछ खरीदा जा सकता है यहाँ तक की जीवन और मृत्यु भी ,परन्तु धन से चरित्र ना तो बनाया जा सकता है और नाही खरीदा जा सकता है |

koun nahin janta

कौन नहीं जानता ?
चैत्र की नरमी
बैशाख की गर्मी
जेठ की बेशर्मी
आषाढ़ की आँधियारी
सावन के सरवरे
भादौं की उमस
क्वार के भूरे बादल
कार्तिक की शाम
अगहन के उलहाने
पौष की कड़कती ठंड
माघ की मल्हारें
फाल्गुन के राग |

Monday, April 24, 2017

kanoon andha nahin blki

अक्सर आपने लोगों को कहते सूना होगा कि " क़ानून अंधा होता है क्योँकि उसके आँखों पर पट्टी बंधी होती है " परन्तु ये बात ठीक नहीं बल्कि असत्य है क्योँ की कानून अंधा न यहीं बल्कि कानून के रखवाले या कानून के द्वारा फैसला करने वाले अंधे हैं क्योँकि उनकी खुद की आँखों पर पट्टी बंधी हुईं है अब वो किस चीज की है कयो है मै  नहीं जानता , जानता भी हूँ तो लिख नहीं सकता ,और यदि लिख दिया तो फिर क्या होगा ये भी आप भली भांति सब जानते हैं फिर मेरे खिलाफ भी वो ही अंधा क़ानून अपना काम करेगा |

ahsaan framosh

अहसान फरामोश ( ना शुक्रे )यानी कि  किसी के द्वारा उस पर, किये गए उपकार का भी वो अहसान नहीं मानते ,ऐसे व्यक्तियों को स्वर्ग तो क्या नरक में भी स्थान नहीं मिलता ,और वो फिर इसी संसार में भूत प्रेत पैशाच या किसी की भी योनि पाकर सदा सदा इसी नश्वर संसार में विचरण करते रहते हैं

Saturday, April 22, 2017

यदि इस संसार मैं कुछ एकत्रित करना है तो ऐ नेक बंदे ,  मात्र दुआएं एकत्रित कर |

Friday, April 21, 2017

नेस्तानबूद हो जाते हैं वो
जो हाथों में हथियार लेकर चलते हैं
जिनका अपनी जुबान पर लगाम नहीं
अक्सर वो रास्तों से भटक जाते हैं |
आपके दिल में में कसक ऐ जुदाई
आपके तन में उमड़ती तन्हाई
आपके नैनों  में उफनते  अश्क़
आपके अंतर्मन में छुपी रहनुमाई
आज तक किसी को समझ ना आई

Thursday, April 20, 2017

MODI JI NE KIYA VISHWASGHAT

मोदी जी ने गैस सब्सिडी धारको के साथ एक और विश्वासघात किया ,उनके कहने प् र करोडो परिवारों ने अपनी गैस सब्सिडी लेने से इंकार कर दिया क्योँकि मोदी जी ने सब्सिडी छोड़ने को कहा था ,
दुसरे उस वक्त गैस सब्सिडी के नाम पर लगभग ८५ रुपया मिलता था जिसको आसानी से देश की खातिर या गरीबों की खातिर छोड़ा जा सकता था इतने पैसों से शायद गैस उपभोक्ताओं को कोई ख़ास फर्क नहीं पडत्ता था ,
परन्तु जैसे ही करोडो गैस उपभोक्ताओं ने सब्सिडी बेनिफिट लेने से मना कर दिया उसके तुरंत बाद ही बिना सब्सिडी वाले गैस सिलिंडर का रेट दिनप्रतिदिन बढ़ता चला गया ,जिसमे आजकल सब्सिडी वाले और बिना सब्सीदी वाले सिलिंडर में लगभग  ३०० रूपये का फर्क है,और यह फर्क ५०० रुपया तक भी जा सकता है , जिसके कारण मध्यमवर्गीय  और गरीब सब्सिडी छोड़  देने वाले परिवारों को बिना सब्सिडी सिलिंडरखरीदने में परेशानी हो रही है और अब सभी गैस सब्सिडी वाले या तो मोदी जी को कोस रहे हैं या अपने आपको ,अब वो कहते हैं मोदी जी ने उनके साथ विश्वासघात किया ,
और बहुत से परिवार तो  कह रहे हैं की उनके कहे बिना ही उनको सब्सिडी वाला सिलेंडर देना ही बंद कर दिया था गैस की एजेंसीज ने ,अब बताइये वो क्या करें ,
अब जहाँ सब्सिडी वाला सिलेंडर ४५० रूपये का हैं वहीँ बिना सब्सिडी का ७४०  रूपये में आ रहा है |
वक्त से बड़ा ना कोई भैया
हो राम ,रहीम या कृष्ण कन्हैया

Wednesday, April 19, 2017

EK BHIKHAARI KI MUNH JUBANI

दिल्ली क पीतमपुरा मधुबन चौक पर मुझे एक भिखारी मिला जो कह रहा था ," दे बाबा मोदी जी के नाम पर ही कुछ पैसे दे दो "
मैंने कहा भाई तुम मोदी जी के नाम पर पैसे क्योँ मांग रहे हो
तो वो बोला साहब जब नोट बंदी हुई तो उस वक्त मेरे पास ५० हजार के १०००,के नोट्स   थे जो मैंने म्हणत मजदूरी करके सालों में कमाए थे ,मेरे बच्चे तो हैं नहीं इसलिए मैंने सोचा था की किसी अनाथ आश्रम में जाकर किसी गरीब मजलूम बच्ची की शादी करके कुछ पुन्न कमा लूंगा और कुछ पैसे से सब्जी आदि खरीदकर बेचा करूँगा क्योँकि अब मजदूरी भी नहीं मिलती क्योँकि मकान बनने ही बंद हो गए हैं ,दूकानदार कहते है अब तो हमारे पास ही काम नहीं है तो तुझे नौकरी कहाँ से दूँ ,इसलिए मई सुबह से मोदी जी के नाम पर पैसे मांग रहा हूँ परन्तु शाम होने जा रही है एक भी पैसा भीख में नहीं मिला ,अब सोचो कितना अरसेना ,( मनहूस )व्यक्ति है की उसके नाम पर कोई भीख भी नहीं देता पता नहीं वोट कैसे दे देते है जनता ,साहब मुझे तो कोई गड़बड़घोटाला ही लगता है ,वैसे ये चाय बेचने वाला आदमी है बहुत शातिर ,अब मेरा तो चाय वालों से ही विश्वास उठ गया है ,जाड़े की ठंड में एक चाय वाला बोला की तू मेरी चाय की भट्टी क पास सो जाया कर ,पर मैं रातभर ठंड से मरना पसंद करता हूँ पर उस चाय वाले की दूकान पर कभी नहीं सोया ,कुंकि मैंने सोचा की कहीं ये मेरे ५०००० रूपये ही ना सटक ले ,और देखो मेरा शक सच्चा निकला मेरे पैसे तो चाय वाले मोदी ही ने सटक लिए ,कूड़ा कर दिए ,साहब आप भी चाय वालों से बचकर रहना |

TARKASH KAA TEER

मोदी जी के तरकस के एक तीर ने
गुरु सहित किये कई अन्य शिकार
 जोशी जी का जोश खत्महो गया
 आडवाणी जी की फुर्र हो गई हुंकार ,
उमा भारती करेंगी  अब हर हर गंगे
विनय कटारिया का ना हो उद्धार 
योगी जी भी कुछ नहीं कर सकेंगे
मंदिर की नाव डूबी बीच मझदार ,


Tuesday, April 18, 2017

NEK SALAAH

यदि आप अपने बुरे वक्त में ,अपने बुरे हालात ,बुरे लोगों से बताओगे तो वो आपको बुरा और बुरे से भी बुरा बनाकर ,बदनाम करके ही छोड़ेंगे ,इसलिए अपने बुरे हालात और वक्त के बारे में किसी को भी मत बताओ हो सके तो चुपचाप शांति पूर्वक अपने बुरे वक्त को गुजार  लो सब कुछ ठीक हो जाएगा |

Monday, April 17, 2017

१ _दिल्ली के नगर निगम के  चुनावों में
केजरीवाल ( आम आदमी पार्टी )
काम को देखकर वोट
                 या
२_ मोदी जी ( भारतीय जनता पार्टी )
१० साल के भ्र्ष्टाचार को देखकर
 नो १
नो २
सुख अमृत का पान कर
दुखिया है संसार
जो दुखों को सुख कहे
बस उसका बेड़ा पार |


कल कल करते जग मुआ
कुछ किया संसार
जिसने आज को जान लिया
उसका भया उद्धार |


तूने किसी को क्या दिया
ना किया कभी उद्धार
अपना बेड़ा गर्क कर
क्योँ खोले नरक द्वार

Sunday, April 16, 2017

OUKAT

हम गंदे नदी नालों से भी गंदे हैं
इसीलिए लोग हमको महागंदे कहते हैं
ऊपर से तो हम सफेदी में फका फ़क़ होते हैं
परन्तु अंदर से हम काले कलूटे होते हैं ,
हम कूकर सूकर से भी गए गुजरे हैं
इसीलिए लोग हमारी तुलना उनसे भी नहीं करते हैं ,
हरामी पण में हमारी कोई सानी नहीं
इसीलिए हम अपने बाप के भी नहीं होते हैं
मुसीबत में जो भी हमारे काम आता है
उसकी मुसीबत में हम उसका भी साथ नहीं देते हैं ,
जो स्त्री मुसीबत में कंधे से कंधा मिला साथ देती है
अपना अच्छा समय आने पर उसे भी छोड़ देते हैं ,
जो भी व्यक्ति हमारे कामों में अड़चन लगाता है
उसे भीहम मौका देखकर नेस्ता नाबूद कर देते हैं ,
हम काम करने में अपनी मनमानी करते हैं
परंन्तु  छटाँक भर को सेर गिनवा देते हैं ,
सम्पूर्ण दिल्ली वासियों से हाथ जोड़कर प्रार्थना है की भाइयों , दिल्ली की अस्मत, आबरू ,यहां की सभ्यता ,तहजीब ,को बचाना है तो भाजपा को आने वाले एम् सी डी चुनावों में वोट मत देना ,वरना तो दिल्ली विगत १० साल की भांति कूड़े का ढेर बनी हुई नजर आएगी ,बाकी आपकी इच्छा ,ठोकर खाकर ही संभल जाओ तो अच्छा है वार्ना फिर" पछताए होत  क्या जब चिड़ियाँ चुग जाएँ खेत "
हम उस देश के वासी  हैं
जहाँ ठोकर खाकर भी ना संभलते हैं
जब लातें पीछे से पड़ती हैं
तो मैया मैया कहते हैं ,
फिर भी खुद को दोष नहीं देते
ऊपर वाले को गालियां देते हैं
जब पार बसाती ना धींगड़ों पर
तो शरीफ और मजलूमों पर बरसते हैं |

Saturday, April 15, 2017

KEJRIWAAL JI

केजरीवाल जी आप वास्तव में एक जुझारू ,ताकतवर और स्तम्भीय , कर्मठ और ईमानदार नेता हो वरना तो जितने अत्याचार आप पर आपकी सरकार वा मंत्रियों पर ,अपनों और पराये  विरोधियों ,विपक्षियों नेताओं ने किये हैं ,और यहां तक की आपकी सरकार को उखाड़ने तक के प्रयत्न  किये जा रहे हैं ,राष्ट्रपति शासन तक लगाने के प्रयत्न  किये जा रहे हैं और आप पर तरह तरह के लांछन ,कुछ आपके भक्तों और कुछ बाहर के भक्तों के द्वारा लगाए जा रहे हैं ,इतना सबकुछ होने पर तो एक साधारण मानव टूट ही जाता है ,परन्तु आप अभी तक ना टूटे हैं और नाहीं टूटोगे और विचलित भी नहीं है ,ये इस बात का प्रमाण  आप अपना भविष्य बनाने में सक्षम हैं ,एक दिन सभी विरोधी मुंह की खाएंगे और आप सार्वभौम होंगे। अंत में एक शेर है "मुद्दई लाख बुरा चाहे तो क्या होता है ,वही होता है जो मंजूरे खुदा होता है "जीत भी आपकी ही होगी |

DIL K TUKDE

मुख्यतया अभिभावक अपनी जिंदगी को टुकड़ों टुकड़ों में जीते हैं ,और जिन दिल के टुकड़ों के लिए वो ऐसी जिंदगी जीते हैं जब वो ही दिल के टुकड़े,  बुढ़ापे में अपने माँ बाप को हिकारत भरी नजर से देखते हैं और उनकी बातों को अनसुना तक कर देते हैं या अपने मित्रों से दूर रहने तक की सलाह देते हैं और उनको वो टुकड़े टुकड़े जैसी जिंदगी भी देने में खुद को असमर्थ बताते हैं तो सच मानिये उन माँ बाप को अपना जीवन दुसाध्य और कष्ट कर नजर आता है तब उनके पास आत्महत्या जैसा घिनौना कार्य करने के शिवा और कोई चारा नहीं होता ,वार्ना वो फिर रात्रि में बिस्तर में पड़े पड़े आंसूओं से उसको गीला करते रहते हैं ,और जब वो स्वर्गीय हो जाते हैं तो उनकी किर्या के नाम पर अखबारों में बड़े बड़े विज्ञापन ,फोटो सहित दिए जाते हैं और उस विज्ञापन में पूरे खानदान के नाम और श्लोक ,तक लिखे जाते हैं और वो भी मात्र इसलिए की उनकी बिरादरी ,यार  रिश्तेदारों को पता चले की वो कितने अच्छे और महान  व्यक्ति हैं और भोज आदि भी दिए जाते हैं ,बरसियाँ मनाई जाती हैं काश यदि इतना खर्चा या सेवा भाव उनके जीते जी कर लिया जाता तो शायद स्वर्ग में रहते हुए भी वो अपने दिल क टुकड़ों हेतु ईश्वर से प्रार्थना करते रहते ,पता नहीं ऐसे लोगों को भगवन कब सद्बुद्धि देगा ,हरी ॐ

Tuesday, April 11, 2017

KUCHH SHER

जन्नत की राह पे चले
तो भी हम फिसल गए
दोजख की राह ओ चले
तो भी वो बढ़ते चले गए |



उनकी मुहब्बत के वास्ते ,
हम बिकते चले गए
जब बोली उन्होंने लगा दी
तो हम जीते जी मर गए |


 तुम मेरी मज़ार पे रोओगे
तो कुछ भी ना पाओगे
मई रोऊँगा तेरी मजार पर
तो अश्क़ों से भीग जाओगे |


lokjoktiyan

इज्जत का एक निवाला अपमान के षटरस भोजन से हजार गुना अच्छा होता है |

समझदार व्यक्ति वही होता है जो  बुरे वक्त में चुपचाप रहकर अच्छे वक्त का इन्तजार करे |

क्रोधी मनुष्य शीघ्र ही मृत्यु को प्राप्त होता है क्योँकि क्रोध उसके शरीर और आत्मा को छलनी  कर देता है |

यदि मुर्दा ज़िंदा भी हो जाए तो मात्र कफ़न फाड़ सकता है |

नारि चाहे किसी भी जाति की हो चाहे कैसी ही भी हो ,वो प्रत्येक रूप में महान होती है, क्योँकि पुरुष ही अपने लाभार्थ हेतु कोई भी रूप प्रदान करता है |

हम सभी को सुसंस्कृत बनाने और संस्कारित करने एवं सुन्दर छवि  प्रदान करने हेतु नारी ही सर्वप्रथम है |

सौतेला शब्द ही विष स्वरूप है चाहे वो किसी भी रूप में क्योँ ना हो |

सर्प पर केंचुली का ,हाथी पर जवानी का ,चांदी  पर सोने के पानी का चढ़ने का ,पीतल के बर्तन पर कलई का ,निर्धन पर धन का ,वा इंसान पर  का ,मुलम्मा चढ़ जाता है ,तो ये सब मद मस्त हो अहंकार के वशीभूत हो ये स्वयं को भी भूल जाते हैं |

विश्वास करना चाहिए जंगल में केवल जानवर का ,पूजा में पत्थर पर और धंधे यानी की व्यापार में केवल पैसे पर |

नफरत की आग में जलता हुआ मनुष्य अजगर सांप से भी खतरनाक हो जाता है |

हौसले यदि बुलंद हो तो सियार भी गाँव उजाड़ देते हैं |

दुष्ट प्रकृति का मनुष्य धन का बाहुल्य होने या ना होने दोनों ही परिस्तिथियों में अपनी दुष्टता वा धृष्टता नहीं छोड़ता
अन्यायी संझ्या में चाहे कितने ही क्यों ना हों सत्यमार्गियों से युद्ध में समूल ही नष्ट हो जाते हैं जैसे महाभारत में दुर्योधन ,यानी कौरवों का सम्पूर्ण परिवार बड़े बड़े योद्धाओं सहित होने के बावजूद ,केवल पांच पांडवों और श्री कृष्ण जी से युद्ध करके सभी मृत्यु को प्राप्त हो गए ,परन्तु पांचों पांडव और श्री कृषि पूर्ण आयु भोगकर ही स्वर्ग गामी हुए |

Monday, April 10, 2017

LOUH PURUSH

हमारे आदरणीय प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी वास्तव में बहुत ही हिम्मत वाले ,रिस्क लेने वाले ,और जो ठान लिया उसे करने वाले ,और रस्ते में जितनी भी बाधाएं सबसे टकराने वाले ,और उनको खत्म करके ही दम  लेने वाले ,और जिसने भी उनका विरोध किया उन्हें बड़े प्यार से रास्ते से हटाने वाले ,फिर चाहे कोई भी हो यानी की उनकी पार्टी या किसी अन्य पार्टी का ही नेता क्योँ ना हो परन्तु एक नेता ऐसा भी है जिसको मिटाने क लिए उन्होंने शाम दाम दंड भेद सभी का इस्तेमाल करके देख लिया परन्तु आज तक तो उसे मिटा ना सके और शायद ही भविष्य में मिटा भी सके जबकि मोदी जी को इस मामले में   कांग्रेस पार्टी का भी पूर्ण सहयोग है ,और बाकी जितने भी विभाग हैं वो भी उनको पूर्ण सहयोग दे रहें हैं ,परन्तु  उसके रस्ते में रुकावटें तो बहुत डाली जा रही हैं उसके बावजूद भी उस नेता का बाल बांका ना कर सके ,क्या आप जानते हैं की वो नेता कौन है ?,तो मित्रो वो नेता लौहपुरुष अरविन्द केजरीवाल है ,
जी हाँ अरविन्द केजरीवाल
दिल्ली का मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल |

AASTEEN KE SAANP

मुझे अपनी आस्तीनों में
सांप पालने का शौक था
शौक को परवान चढ़ाकर
बिरादरी में प्रसिद्ध हो गए
परेशानी है ,सांप तो  गए
पर काटे के निशाँ बाकी हैं

Sunday, April 9, 2017

BHAJPA KA EK OR HATHKANDA

आजकल एम् सी डी ( कारपोरेशन )क चुनावों में भाजपा ने आप पार्टी को ,और उसके संयोजक मुख्य मंत्री दिल्ली क अरविन्द केजरीवाल को बदनाम करने क लिए लिए एक और नया तरीका अपना रहे हैं जो की फूहड़ और बेसिरपैर का है जैसे की ५० प्लेट खाने की जिसका टोटल बिल ७२५०० रुपया ,इस हिसाब से १ प्लेट खाने का बिल लगभग १४०० रुपया जिसे कभी वो १२०० ० की प्लेट बताते हैं और कभी १६००० की और कभी १६०० रूपये की ,जो की ताज मानसिंघ होटल जो की एक फाइव स्टार होटल है उससे मंगवाया गया और वो भी ३ साल पहले ,जिसकी फाइल दिल्ली क गवर्नर अनिल बेजल जी क पास विगत ३ वर्षों से पास होने क लिए पड़ी है खेर सवाल ये नहीं है ,सवाल ये है की या तो भाजपा प्रवक्ता ,अध्यक्ष अथवा मंत्री से संत्री तक पढ़े लिखे नहीं है क्योँकि वो ५० प्लेट खाने का हिसाब लगाने में भी असमर्थ हैं ,या जानबूझकर जनता को आप सर्कार के प्रति गुमराह कर रहे हैं ,या फिर उन्होंने कभी ककिसी ५ स्टार होटल में  खाना ही नहीं खाया वो लीठी  चोखा ही खाना जानते हैं ,वैसे भी यदि उन्होंने किसी ५ स्टार में खाना खाया होता तो वो इतनी असंगत बात  यहीं करते की एक थाली का मूल्य कभी १६०० कभी १२००० या कभी १६००० कहते ,बताते हैं |
जबकि आज भी ताज मानसिंघ होटल की एक थाली का रेट २५०० रुपया है और कोई भी वहां जाकर भी खा सकता है और अपने खर्चे पर घर भी मंगवा सकता है |
कहने का तातपर्य है की आज भाजपा और कांग्रेस दोनों ही पार्टी आप पार्टी को खत्म करना चाहते हैं जब की वो इनके गले की हड्डी बन चुकी है ,परन्तु फिर भी कोशिश कर रहे हैं और केजरीवाल क बारे में दो जानी दुश्मन गहरे दोस्त बन जाते हैं
और अंत में मैं ये ही कहूंगा की इनकी ये बेवकूफी इनको दिल्ली में तो इन चुनावों में ले डूबेगी ,वैसे भी दिल्ली की जनता जानती है की जितना शोषण ये पार्टी पिछले सालों में दिल्ली वालों का कर चुकी है शायद  ही किसी और पार्टी ने किया होगा |

Saturday, April 8, 2017

लबों पर लगाम रखने वाले
ना कभी बदनाम होते हैं
चाहे कितने ही बड़े मूर्ख हों
सब उनको बुद्धिमान समझते हैं |

Friday, April 7, 2017

JOOTHAN

भोजों में भोज्य पदार्थों से
प्लेट ऊपर तक भर लेते हैं
कुछ पदार्थ स्पेस की कमी से
बह बह कर गिरने लगते हैं ,
किसी का सूट खराब होता है
किसी की साडी पे धब्बे लगते हैं
सभ्य होने के कारण एक दूजे को ,
कुछ भी कहने में संकोच करतें हैं ,
क्रोध तो सीमा पार कर जाता है
थप्पड़ मारने  को जी चाहता है
बस  चले तो खाल में भूसा भर दे
पर रायता फैलाने से डरते हैं ,
अंत में ऐसे  बुद्धिमान व्यक्ति
मुंह तक पेट भरने के पश्चात
बचे हुए समस्त  पदार्थों को
कूड़े के टबों में फेंक देते हैं
अपने देश में एक सर्वे के अनुसार
१९ करोड़ लोग रोज भूखे सोते हैं
यदि इस जूठन को बचा लिया जाए
तो २० करोड़ लोग पेट भर सकते हैं |



Thursday, April 6, 2017

हम अपने ख्वाबों में भी
उनको तवज्जो नहीं देते
फिर भी वो अपनी अदाओं से
हमारी नींद चुरा लेते हैं |
खुद्दार भी वही होते हैं जो कभी 
 अहसान फरामोश नहीं होते ,
अपना जनाजा निकलवा लेते हैं
किन्तु जुबान से वापस नहीं होते ।


अपनों का खून पीने  वाले
कभी शहंशाह नहीं होते
शहंशाह गर बन भी जाते हैं
तो खलकत के चहेते नहीं होते |



गौ रक्षक का ढोल पीटने वाले
मात्र एक एक गौ भी पाल लेते
तो कसाइयों की क्या मजाल
जो गौ को कत्ल खाने भेज देते ।




Wednesday, April 5, 2017

vyvhaar

पत्नी की बात
भाइयों के हाथ
माँ ,बाप का दोगला पन
बच्चों का कुठाराघात ।
ये चार प्रकार का व्यवहार सम्पूर्ण जीवन टीस देता रहता है

Monday, April 3, 2017

यदि टूटने से पहले ,जुड़ने की कला भी सीख लेते, तो शायद  टूटते ही नहीं ,और सुखी रहते
चक्रव्यूह में घुसने से पहले, बाहर  निकलने की कला सीख लोगे, तो कभी फसोगे ही नहीं ,

Sunday, April 2, 2017

जो मोदी जी के अगाडी और
योगी जी के पिछाड़ी से गुजरेगा ,
उनका क्या हाल होगा मैं  नहीं जानता
जरा बताने की कृपा करें ?

Sunday, March 26, 2017

mera apna vichar

अक्सर आपने बहुत व्यक्तियों से सुना  होगा की प्रेम से दुश्मन को भी जीता जा सकता है परन्तु मैं ऐसा नहीं मानता क्योँकि मैंने आज तक ऐसा कोई वाकया नहीं देखा जहां पर किसी ने प्रेम से दुश्मन को जीता हो और यदि किसी ने जीत भी लिया तो, उस दुश्मन ने उसकी पीठ में छुरा ही भौंका है ,इसलिए मेरा निर्णय ये है की दुश्मन को सदैव शक्ति से ही जीता जा सकता है , और सदियों से ऐसा ही होता आया है इसलिए हम सबको भी पुरानी घटनाओं से सबक लेना चाहिए ।
अत: प्रेम से किसी प्रेमी को ही जीता  जा सकता है ,
और शक्ति से दुश्मनों को क्योँकि वो वही भाषा जानता है ।

ek vichar

आपके बुरे वक्त में भले ही कोई व्यक्ति आपकी सहायता ना करे परन्तु जब" उसको आपकी सहायता की जरूरत हो तो आप  उसकी जितनी भी सहायता हो सकती  है निसंकोच कीजिये ",पहल करने की जरूरत है और फिर परिणाम देखिये ।

Tuesday, March 21, 2017

k p uvach

शायद ये बात जवानी में अच्छी न लगे परन्तु बुढापे में अवश्य बात को याद करके रोओगे क्योँ ?
भाई ,बन्धुओं को अपना सर्वस्व और धन देने के बाद ,ब्याज के रूप में अपमान ,और मूल के रूप में दुश्मनी प्राप्त  होती है ।




यदि मनुष्य को अपने धन के बदले में ब्याज ही लेने का शौक है तो उसे चाहिए की वो अपने धन को ,गरीब ,मजलूमों ,अनाथों ,जरूरतमंदों को दान कर दे ,क्योँकि दान दिया हुआ धन ,बाद में दस गुना होकर  मिलता है और ठीक समय पर जब उसकी आपको जरूरत होती है अवश्य मिलता है ,आजमाइश करके लिखा

धनाभाव होने पर बुद्धिमान ,सशक्त ,सुन्दर मनुष्य ,की बुद्धि भी ,ह्रदय भी ,और सुंदरता एवं मान सम्मान ,सभी का ह्रास भूमि के कटाव की भांति होता रहता है ,जिसका इलाज भी असम्भव है ।

Monday, March 20, 2017

हम जिनके दिलों में लगी आग को
अपने आंसूओं से बुझा दिया करते थे
जिनके दिलों में लगी आग को बुझाया
वो अब हमको बेवफा कहने लगे हैं   ।
धन से सब कुछ  खरीदा जा सकता है ,यहां तक की जीवन और म्रत्यु भी ,और सब कुछ बनाया भी जा सकता है ,परन्तु चरित्र ना तो बनाया जा सकता है ,और नाही खरीदा जा सकता है ।
जब दिल पर चोट लगती है तो  आँखों से आंसू निकलते हैं ,और जब दिल को असीम ख़ुशी मिलती है तो भी आँखों से आंसू ही निकलते हैं यानी की दिल आँखों और आंसूओं में कितना समन्वय है ।
समुन्दर में विचरण करते कीड़े मकोड़े
मगर मच्छ कहलाते ,
धनवानों के घर पैदा पगले
बुद्धिमान ही कहलाते ,
मुर्ख निरक्षर धरत व्यक्ति भी
भारत में नेता बन जाते ,

Saturday, March 18, 2017

swsth shareer rakhne hetu

निरोगी काया ( शरीर ) रखना चाहते हो तो बशर्ते कुछ भी मत करिये, परन्तु अपने मष्तिस्क को सदैव साफ़ शुद्ध रखिये ,यानि की मष्तिस्क को ईर्ष्या ,द्वेष ,अहंकार ,वैमस्यता निराशा ,चिंता जातीय भेद ,इन सबसे मुक्त रखिये , फिर देखिये सुखद परिणाम ।

Friday, March 17, 2017

जिस प्रकार स्त्रियों ने अपने पति को परमेश्वर का दर्जा दे रखा है यदि ठीक उसी प्रकार पुरुष भी अपनी पत्नी को देवी का दर्जा दे दें ( अपने पुरुष प्रधान अहम ) को छोड़कर तो मैं समझता हूँ की आधे से ज्यादा पति पत्नी के झगडे स्वत्: ही समाप्त हो जायेंगे और परिवार में सुख शांति का माहौल बना रहेगा और जहाँ शांति होगी वहाँ पर लक्ष्मी का वास भी रहता है ।
                                    कांति  प्रकाश चौहान

BUJURG

यदि हम सभी भारतवासी बुजुर्ग ,अपने बच्चों के सभी कार्यों में जापानीज बुजुर्गों की भांति हाथ बटाये ,और उनका सहारा बनने कीकोशिश करें यानी की उनको अपनी उपयोगिता दर्शाएं ,यथा उनके उद्योग धंधों में छोटे मोठे कार्य या ऑफिसियल वर्क करें ,जो वो कर सकते हैं ,और यदि घर में भी रहें तो छोटे मोठे कार्य जैसे साग भाजी लाना ,बच्चों को स्कूल छोड़ना और लाना या जो भी कार्य वो करने में सक्षम हैं करें तो शायद हमारे देश में व्रद्धाश्रमों की जरूरत नहीं पड़ेगी ,और यदि व्रद्धाश्रम हैं भी तो वो खाली ही रहेंगे , कोई भी व्यक्ति इतनी उपयोगिता देखने के पश्चात बुजुर्गों को व्रद्धाश्रम नहीं भेजेगा ,
" एक कहावत है की सभी को काम प्यारा होता है चाम नहीं "

Wednesday, February 8, 2017

एक कहावत है।
कमजोर की जोरू सबकी भाबी ,
धींग की जोरू सबकी चाची

Tuesday, February 7, 2017

ANTAA ( EK OUSHDHI )

लोग कहते हैं की जब कोई नेता अंटा( भांग का गोला) लगाकर लोकसभा में बोलता है तो उसकी शक्ति हजारों गुना बढ़ जाती है ,स्पीच देने की गति १०० किलो मीटर प्रति घंटे हो जाती है ,अपने सामने बैठे हुए सभी उसे सियार नजर आने लगते हैं ,उसकी भृकुटियां तन जाती हैं दिमाग भी बिजली की गति से तेज हो जाता है जिसके कारण उसकी सोचने की शक्ति बढ़ जाती है ,बजाय भाषण के कविताएं मुख से फूटने लगती हैं ,श्लोक प्रस्फुटित होने लगते हैं कटाक्ष करने की  आलोचना शक्ति में उछाल आ जाता है ,मैं मैं की आवाज उसके गले से आने लगती है ,उसको ऐसा लगने लगता है की उसके सिवाय इस देश में और कोई देश भक्त ही नहीं हैं या वो  सभी देश द्रोही हैं जो उसका अनुसरण नहीं करते ,या जो  उसकी बातों को सुनकर मेज नहीं थपथपाते ,
हमारे देश में बहुत से ऐसे नेताओं ने जन्म लिया है जो  प्रधानमंत्री गद्दी तक भी पहुंचे और अब भूतपूर्व भी हो गए हैं और वर्तमान में भी ऐसे कुछ नेता मौजूद हैं जो आज भी अंटा लगाकर कुछ से क्या बनाकर दिखा देते हैं । 

KATAKSH

भारतवर्ष को  आजादी १९४७ में आदरणीय प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी जी ने दिलवाई ,जबकि वो उस वक्त तक पैदा भी नहीं हुए थे ,अब सवाल उठता है कि जब वो पैदा ही नहीं हुए थे तो देश को उन्होंने आजादी कैसे दिलवा दी ,,मजे की बात तो यही है ,कयौकि वो उस वक्त किसी और देश के प्रधानमंत्री थे ,यानी की उस जन्म में ,और उनसे भारत की दुर्दशा देखि नहीं गई ,तो उन्होंने भारत वर्ष के दो व्यक्तियों को चुना एक स्व जवाहर लाल नेहरू और दुसरे स्व महात्मा गाँधी जी ,और इन दोनों नेताओं ने मोदी जी के दिशा निर्देशों के अनुसार कार्य किया ,जिसके कारण भारत को अंग्रेजों ने आजादी दे दी ,
पहली बात तो ये है की कुछ लोग समझते हैं की देश को सिर्फ एक व्यक्ति यानी कि नेहरू जी ने आजादी दिलवाई ,परन्तु मोदी जी के अनुसार एक नहीं दो व्यक्तियों ने आजादी दिलवाई थी जिनमे दुसरे गांधी जी थे ,परन्तु वास्तव में हमको ,देश को आजादी दिलवाने का श्रेय तो अजन्मे मोदी जी को ही जाता है ,
और आज ६६ साल के बाद फिर एक बार मोदी को प्रतीत हो रहा है की देश प्रीतिदिन गुलामी की और अग्रसर हो रहा है इसलिए उन्होंने नोटों की गुलामी से मुक्त करने हेतु नोट बदली demontisation कर दिया,क्योँकि ना बांस होगा ना बासुरी बनेगी और नाहीं बजेगी ,तो वो हमको माया से मुक्ति दिलाकर आजाद करने का भरषक पर्यटन कर रहे हैं।
अंत में मैं फिर कहूंगा की हमको आजादी दिलवाने वाले मोदी जी का अहसान हमको मानना चाहिए ,।
अब जब मैंने भी मान लिया है तो आप भी मान जाओ शायद मोदी जी और अंध भक्त खुश हो जाएँ ?

Monday, February 6, 2017

APNA VOTE KISI KO BHI DO,PAR,

जब भी देश में चुनाव आते हैं तो जनता को  एक चुनॉती पूर्ण फैसला लेना पड़ता है कि वो अपना अमूल्य अधिकार किस पार्टी को ,या किस व्यक्ति को दें और उसके सामने एक असमंजस की स्तिथि उतपन्न हो जाती है क्योँकि उम्मीदवार अच्छा है या फिर अपना सगा है और पार्टी खराब है ,दूसरी तरफ उम्मीदवार बेकार ,बिना पढ़ा लिखा ,बदमाश या बेवकूफ है और पार्टी अच्छी है तो वो अपना वोट किसको दे ,तो भाइयो इस स्तिथि से निकालने हेतु मैंने एक मूलमन्त्र उधृत किया है ,यदि आपको अच्छा लगे तो ग्रहण कर लेना ,यदि नहीं ,तो छोड़ देना ,तो मेरी सलाह है की आप अपना विशेषाधिकार ( वोट )ऐसे व्यक्ति को बिलकुल मत देना चाहे वो कोई भी हो ,
और एक बात बता दूँ पार्टी कोई भी खराब नहीं होती चाहे नै हो या पुरानी झूठे ,बेईमान ,भ्र्ष्टाचारी होते हैं ये नेता जिनको आपने वोट करनी है ।
तो वो निम्नलिखित व्यक्ति हैं
अशिक्षितं =, अर्ध शिक्षित ,क्योँकि वो अपने सामने किसी भी शास्त्र या ज्ञान अथवा सलाह को नहीं समझ सकता ,और नाहीं वो  विधान सभा या संसद में जाकर आपके लिए कुछ कर सकता ।
असत्यभाषी=   ,झूठ बोलने वाला नेता आपको कुछ भी नहीं दिला सकता ,वो खुद को खुदा से कम  नहीं समझता । 
वायदों से मुकरने वाला ,=चुनाव के वक्त तो वायदे पर वायदे करता हो और बाद में मुकर जाता हो या भूल जाता हो अथवा गौर ही ना करता हो ।
फेंकू और जुमलेबाज =   लम्बी लम्बी फेकने वाला ,बिना मतलब की बातें घोटने वाला ,जुमले सुनाने वाला ।
अहसान फरामोश = जो आपके दिए वोट का अहसान भी ना मानता हो ।
 धार्मिक भावना=जो जनता की धार्मिक भावनाओं को भड़काकर ,दंगे फसाद कराने वाला ।
तानाशाह  = जो अपनी ही अपने चलाता हो ,जनता को पैर के   अंगूठे पर रखता हो ,आपकी भावनाओं की कदर ना करता हो ।
हितैषी = जनता का हितैषी ना हो ,अपनी ही दाढ़ी में घस्सा  लगाता हो ,जनता से विश्वाश्गात करता हो ।
पैसे को बहाता हो = जी हाँ जो आपकी गाढ़ी कमाई पर ऐश करता हो । 
राजनीति ज्ञान =  राजनीति से अज्ञान हो ,चाणक्य जैसा निपुण ना हो ।
आर्थिके  स्तिथि =देश की आर्थिक स्तिथि का ज्ञान ना हो ,वार्ना देश की आर्थिके स्तिथि को भी खराब कर देगा
देश द्रोही = देश के प्रति वफादार ना हो ,।
बाकी जो रह गए हों वो आप भी कुछ सोच लेना ,धन्यवाद ,

Saturday, February 4, 2017

bhajpa 375 ,U P me

भाजपा ने उत्तर  प्रदेश में ३७५ सीटों पर टिकिट दिए परन्तु एक भी मुस्लमान को टिकेट नहीं ,जानते हो क्योँ ?क्योँकि वो जानते हैं की मुसलमानो ने उनको वोट ही नहीं देना ,सबसे बड़ी सेक्युलर पार्टी भाजपा ,हिन्दू ,मुस्लिम भाई  भाई " हिंदुओं को दिए टिकेट ,मुस्लिमों को लोली पॉप खिलाई "
उन हसीनों के दड़बे पे जा सजदा क्या करना
जहाँ ,खुद की निगाहों में चरित्र हनन हो जाए 

Wednesday, February 1, 2017

nalle ko neta bana do bas fir dekho chmtkar

मेरे प्यारे ,मित्रो ,बन्धुओ ,और फेसबुकियों ,मैं  आपको एक नेक और अच्छी सलाह देना चाहता हूँ जब हम ,आप और किसी पडोसी का बेटा ,भाई इतना बिगड़ जाये और उलटे सीधे ऐसे काम भी करने लगे जिसके कारण समाज में मान सम्मान भी जाता रहे या जाने का खतरा हर वक्त बना रहे ,जैसे की आवारा गर्दी करना ,काम धाम बिलकुल नहीं करना ,यानी की निकम्मा और निठल्ला होने के बावजूद शराब ,सिगरेट ,गुटखा खाना और पीना ,और गन्दे लोगों से दोस्ती रखना और आपके लाख कोशिश करने के उपरान्त भी नहीं बदलना
अपने घर में ही चोरी चकोरी करना आदि आदि ,
तो मित्रो उसको आप नेता बना दो और कुछ थोड़ा बहुत उसपर खर्च कर दो ,घर से खुली छुट्टी दे दो बोलो की वो कुछ भी करे हमको एतराज नहीं है और जब भी घर में आये अकेला या दो चार दोस्तों के साथ उसकी और दोस्तों की खूब सेवा करो ,
फिर देखना वो क्या गुल खिलाता है ,अपना और आपका और सम्पूर्ण खानदान का नाम रोशन कर देगा ,कुछ दिन बाद  सभी लोग आपके यार दोस्त रिश्तेदार उसको भी और आपको भी मान सम्मान देने लगेंगे और धन से तो आपको मालामाल कर ही देगा ,
ऐसा मैं इसलिए कह रहा हूँ की जो उपरलिखित गुण उसमे हैं वो सभी होनहार नेताओं में पाए जाते हैं
अब आप मेरा आशय समझगे ही गए होंगे

Monday, January 30, 2017

aavshykta ek aise vykti kee

एक ऐसे व्यक्ति की आवश्यकता है जो
मोदी जी की भांति झूठ पर झूठ बोल सके और नित  नै  नै फेंक सके ,वर्चस्व के लिए कुछ भी कर सके ,असली मुद्दों को छिपाने में माहिर हो और नित नए मुद्दे तैयार कर सके और जनता को दिग्भर्मित करने में सफल हो सके ,सरकारी मशीनरी का दुरूपयोग करने में माहिर हो ,सुने सबकी पर करे अपने मन की ,देशवासियों से मन की बात करे और गाये आले बाले ,फोटो खिंचवाने का शौकीन हो और कपडे दिन में कम  से कम  १० बार बदले ,देश में कितने ही किसान या लोग ,सैनिक मर जाएँ उनपर एक भी आंसू ना बहाये ,बड़े बड़े दिग्गजों का लोन माफ़ कर सके और किसानों को मारने दे फांसी लगाकर ,एक शर्त और बाल बच्चेदार हो तो उनको छोड़ने में दिल न पसीजे ,पॉलिटिक्स में मास्टर्स की डिग्री होने के बाद भी अपनी शिक्षा १० विन पास बता सके ,
आदरणीय वेंकैया नायडू जी जैसा जो कदम से कदम मिलकर चलने में माहिर और बिना कचौड़ी का गवाह बनने की क्षमता रखता हो
 आदरणीय राजनाथ सिंह जी की भांति चमचागिरी में माहिर हो  जिधर मोदी जी ऊँगली उठा दें उधर आँख मीचकर भागना शुरू कर दे सोचने की जहमत ना उठाये ,
अरुण जेटली जी की भांति उलटे सीधे गलत आंकड़े पेश करने में माहिर हो ,अपने वाक्चातुर्य से जनता को आकर्षित करने में माहिर हो ,पर लोकसभा से कभी जीतकर ना आ सके ,
संबित पात्रा  उर्फ़ लंबित पात्ररा जी की भांति प्रत्येक वाक्य पर कांग्रेस के ६५ साल का गाना गाना  और अपना कम्पेरिजन करना शुरू कर दे ,सुने किसी की नहीं बस सुनाता ही रहे ,
गडकरी जी की भांति बड़े बड़े उद्योग झुग्गी झोपड़ियों में फर्म खड़ी करके करोडो का व्यापार कर सके ,
चाहे तो वो अमित शाह जी जैसा ही हो पर उनके ऊपर कोई दाग लगा हुआ ना हो  या फिर दाग को रातों रात साफ़ करा सके ,राजनीति के नए नए फॉर्मूले ,शाम ,दाम ,दंड ,भेद सभी में अमित शाह जी की भांति माहिर हो
अब ये मत पूछना की उससे हम काम क्या करवाएंगे ,यदि आप पूछोगे तो बता भी देंगे भाइयो ।

ishq

 दफ़न हो जाया करते हैं ,जो इश्क़ फरमाया करते हैं ,
बिना कफ़न  ही मौत के आगोश में सो जाया करते हैं

Saturday, January 28, 2017

modi ji k jhoothe vayde

आखिर मोदी जी चुनावों के समय में बार बार झूठ क्योँ बोलते हैं लगभग ढाई वर्ष पूर्व सांसदों के चुनाव में उन्होंने मोटे  मोठे  ४ या ५ वायदे किये थे जो आज तक पूर्ण नहीं किये गए ,
१, अयोध्या मंदिर यथाशीघ्र बनेगा ,अंध भक्त भी कहते थे की यदि मोदी जी नहीं, तो हम बनवाएंगे ,
अभी तक तो कोई नींव या पत्थर लगा नहीं ,शायद २०१९ के चुनावों में भुनाने का सोच लिया हो ,शायद अंध भक्त तो अब कहीं भाग गए हैं मेरे अकाउंट पर तो काम ही नजर आते हैं शर्म से मुंह छिपाते होंगे बेचारे ,
२ ,धरा ३७० फुल मेजोरिटी मिलते ही हटवा दूंगा ,
खेर फुल मेजोरिटी मिल गई ,पर धारा ३७० तो नहीं हटी ,
हाँ मोदी जी ने सरकार जरूर बना  मैडम से मिलकर ,
३, पाकिस्तान हमारे एक सैनिक का सर कटेगा हम उसके १०० सैनिकों का सर काटकर लाएंगे
हमने तो उनके सैनकों के सर काटे नहीं या कटे भी तो गिने चुने ,पर पाक ने पिछले ढाई साल में हमारे १२६ या १४६ सैनकों को शहीद अवश्य कर दिया ,
और इसके बावजूद नवाज शरीफ भाई के पास बिना बुलाये बिरयानी खाने पहुँच गए ,
दुसरे दिल्ली  के मुख्यमंत्री केजरीवाल को ही मोदी जी ने पाक का नवाज शरीफ मानकर  उसके मंत्रियों को जेल भेजकर पाक से बदला ले रहे हैं ,उस बेचारे का जीना जरूर हराम कर दिया है झूठे प्रचार कर कर के ,
४, प्रधानमंत्री बनते ही महंगाई काम कर दूंगा
जैसे ही वो प्रधानमंत्री बने महंगाई ४ गुनी हो गई और वोट देने वाली जनता त्राहि त्राहि करने लगी ,और ऊपर से महंगाई कम  करने के लिए नोटबंदी और कर दी ,और जनता को वोट देने का मजा भी चखा दिया ,
५,  भ्र्ष्टाचार कम  कर दूंगा और बाहर का सम्पूर्ण दो नम्बर का पैसा लाकर सभी परिवारों को १५ /१५ लाख रुपया दूंगा ,
आज तक तो किसी को चवन्नी तक दी नहीं उलटा चवन्नी के लिए भी भिखारी और जनता को बना दिया

पहले वायदे तो पूरे किये नहीं अब पंजाब ,में कह रहे हैं की सबको २५ रूपये किलो देशी घी और १० रूपये किलो चीनी दूंगा ,
कृपया मोदी जी ये तो बताओ की जो भैंस घी देंगी वो आपने क्या अपने घर गुजरात में पाल राखी हैं या डेल्ही रेसकोर्स के मैदान में ,इतना ज्यादा भी झूठ मत बोलो की जनता आपको वास्तव में ही फेंकू न समझने लगे ,
और क्या चीनी की मिलें आपने अडानी अम्बानी को लगाकर दे दी हैं या बाबा रामदेव को या फिर चीन से चीनी मंगवा कर दोगे जो चीन आपको १० रूपये किलो में सप्लाई करेगा ,
हे भगवन हम अपने झूठे प्रधानमंत्री जी से कैसे छुटकारा पाएं
कहीं ऐसा तो नहीं की झूठ आपकी छटी में पूजा हुआ हो ,या कुंडली में लिखा हो ,
कुछ लोग कहते हैं की जब तक मोदी जी दिन में ५ या १० बार झूठ नहीं बोलते तो उनका खाना  नहीं पचता क्या ये स्तय है ।

Friday, January 27, 2017

economic emergency ne desh ko kiya barabaat

 १९७७ में ईमरजेंसी से पहले कांग्रेसी अंध भक्तों ने स्व  श्रीमती इंदिरागांधी जी उनकी प्रसिद्धि के लिए इतना दिग्भर्मित कर दिया था की वो भी एक प्रकार से डिक्टेटर बन गई और उन्होंने ईमेजेन्सी की रातों रात घोषणा कर दी और उन्होंने  विपक्षि नेताओं को जेल में ठुस्स दिया गया परन्तु देश की व्यवस्था किसी भी प्रकार से न
चरमरा पाई बल्कि देश की अर्थव्यवस्था में इजा फा हुआ ,
उससे भी कहीं ज्यादा अंध भक्तों ने मोदी जी को उनकी गरिमा के पुल बाँध दिए और वो भी इतने की मोदी जी अपनी यानी की प्रधानमंत्री की गरिमा को ही भूल  गए ,
और मैं  तो कहूंगा उन्होंने विपक्षियों की बुराई कर कर के ,उल्टी सीधी  फेंक फेंक कर  सम्पूर्ण गरिमा को ही खो दिया ,और देश के ऊपर नोटबंदी करके देश पर आर्थिक आपातकाल  ही लगा दिया जिसके कारण देश के लाखों छोटे व्यापारी प्रायः खत्म से हो गए और किसानों ने आत्महत्याएं की ,देश के बहुत से बड़े बड़े बिजनैस मैन देश छोड़कर भाग गए और बहुत सारे भागने की फ़िराक़ में हैं ,क्योँकि उनके धंद्ये बन्द हो चुके हैं या दिवालियापन के कगार पर हैं ,
आज देश में भाजपा की हालात ख़राब है परन्तु अंध भक्त आज भी मोदी जी को ठीक रिपोट पेश  नहीं करते वो मोदी जी आँख मीचकर अपनी धुन में फेंके जा रहे हैं की अभी भी २ साल का  बाकी है चाहें तो मोदी जी अपनी खोई प्रतिष्ठा को प्राप्त कर सकते हैं और भाजपा को ५  प्रदेशों में जीत दर्ज करवा शकते हैं और शायद आगे भी आ जाने की आशा ले सकते हैं
वार्ना तो आगे  अगले १५ साल तक तक शायद कोई नाम लेवा या पानी का देवा ही ना बचे

Wednesday, January 25, 2017

kahawat

एक कहावत है भाई ,स्त्री के सन्दर्भ में ,
"चतुर नारि मूरख को ब्याही
लिखे कर्म को बाँचा करिबे "। ,
आज हमारे समाज में यही सबकुछ हो रहा है ,क्योँकि आज लडकियां लड़कों के मुकाबले सभी कार्यों में चतुर हैं परन्तु जब हम उनकी शादी करते हैं तो अच्छे लड़के मिलते नहीं और अभिभावक  समाज के भय से किसी भी 'ऐरे गैर नत्थू खैरे " के साथ शादी करनेको मजबूर हैं और फिर लड़की जीवन भर अपने भाग्य को ही कोसती रहती है ,।

Monday, January 23, 2017

soochnaarth

कितनी गंदी मानसिकता के लोग फेस बुक पर भरे पड़े हैं जो व्यभिचार की ही बातें करते हैं उनको शायद और कोई अच्छा कार्य तो आता ही नही है ,एक तरफ मित्र कहते हैं और उनको परोसने की कोशिश करते हैं व्यर्थ की बातें वो भी ऐसी जिनका सभ्य समाज से कोई मतलब ही नहीं है ,कितने गन्दे लोग हैं छी छी  ऐसे ओछी प्रकृति वालों से ,इन जैसे लोगों को तो मैं पशुओं की श्रेणी में भी नहीं रख सकता ,यदि ऐसे लोग गलती से आपके मित्र बन भी जाएँ तो उनको अनफ़्रेंड कर दीजिये और हिदायत दीजिये की वो कभी आपसे सम्पर्क न करें ,और यदि कहीं कुछ हो सकता है तो इनकी कंप्लेंट भी करें ,कभी कभी दिल में आता है किऐसे लोगों की वजह से क्योँ न फेस बुक ही छोड़ दी जाए ।

Sunday, January 22, 2017

muhabbat k keede

मुहब्बत के कीड़े जब किसी के
मासूम दिल में कुलबुलाने लगते हैं
रातों की नींद हराम हो जाती है
कुछ अजीब से सपने आने लगते हैं ,
भूख प्यास भी  नहीं लगती
कुछ भी अच्छा नहीं लगता
घर वाले यदि बात भीं करते हैं तो
मुहब्बत के दुश्मन ,नजर आने लगते हैं ,
कहते हैं इश्क़ और मुश्क नहीं छुपता
यदि तुम छिपाते हो उसे किसी से तो
दिन में भी सपने आने लगते हैं ,
लोग हाव भाव देख मजनू बताने लगते हैं ।


Friday, January 20, 2017

sher arj hai

मैंने कभी चाहा ही नहीं तुम्हें
तो फिर मैं तेरा दीदार क्योँ करूँ ,
मासूम अश्क़ों को ना बहा कब्र पे
मैं तो रूह हूँ खुराफात कैसे करूँ ,
बेरहम दिल को किसी मासूम से लगा
उसके दिल को ठंडी तासीर बख्शना
हो सके तो मुआफ़ कर देना मुझे
इस बेरहम जहमत को छुपा के रखना ।