Monday, July 17, 2017

आशियाने जल जाते हैं
विरह की आग में 
तप्ति  दोपहरी में
ठंडक प्रतीत होती है
प्रेयसि के आगोष में

No comments:

Post a Comment