Wednesday, June 14, 2017

MATR HNSIYE OR MUSKURATE RAHO

बाग़ में जाने पर ,
कलियों को देखकर
अक्सर लोग मुंह बना लेते हैं ,
परन्तु खिला फूल देखकर
उसे चूम लेते हैं या
फिर सूंघ भी लेते हैं और
अपनी शेरवानी में लगा लेते हैं
जानते हैं क्योँ ?
क्योँकि वो खिल रहा है ,हंस रहा है
और प्रत्येक व्यक्ति ,हंसी चाहता है
मुस्कराहट चाहता है और
उसके रंग रूप सौंदर्य और
उसकी सुगंध संलिप्त हो
अपने दुःख दर्दों को
बस भूलना चाहता है |
इसलिए भाइयो हँसते रहो
मुस्कुराते रहो और
अपने आस पास वालों को
सकून  और चैन लुटाते रहो |

No comments:

Post a Comment