Friday, April 7, 2017

JOOTHAN

भोजों में भोज्य पदार्थों से
प्लेट ऊपर तक भर लेते हैं
कुछ पदार्थ स्पेस की कमी से
बह बह कर गिरने लगते हैं ,
किसी का सूट खराब होता है
किसी की साडी पे धब्बे लगते हैं
सभ्य होने के कारण एक दूजे को ,
कुछ भी कहने में संकोच करतें हैं ,
क्रोध तो सीमा पार कर जाता है
थप्पड़ मारने  को जी चाहता है
बस  चले तो खाल में भूसा भर दे
पर रायता फैलाने से डरते हैं ,
अंत में ऐसे  बुद्धिमान व्यक्ति
मुंह तक पेट भरने के पश्चात
बचे हुए समस्त  पदार्थों को
कूड़े के टबों में फेंक देते हैं
अपने देश में एक सर्वे के अनुसार
१९ करोड़ लोग रोज भूखे सोते हैं
यदि इस जूठन को बचा लिया जाए
तो २० करोड़ लोग पेट भर सकते हैं |



No comments:

Post a Comment