Sunday, January 22, 2017

muhabbat k keede

मुहब्बत के कीड़े जब किसी के
मासूम दिल में कुलबुलाने लगते हैं
रातों की नींद हराम हो जाती है
कुछ अजीब से सपने आने लगते हैं ,
भूख प्यास भी  नहीं लगती
कुछ भी अच्छा नहीं लगता
घर वाले यदि बात भीं करते हैं तो
मुहब्बत के दुश्मन ,नजर आने लगते हैं ,
कहते हैं इश्क़ और मुश्क नहीं छुपता
यदि तुम छिपाते हो उसे किसी से तो
दिन में भी सपने आने लगते हैं ,
लोग हाव भाव देख मजनू बताने लगते हैं ।


No comments:

Post a Comment