Wednesday, September 28, 2016

ghaav

जिगर को खोल कर दिखा दूँ तो
घाव गिनते गिनते थक जाओगे
शायद  मैं भूल जाऊं तुमको मगर
तुम मुझे ताजिन्दगी ना भूल पाओगे ।

Thursday, September 22, 2016

teen deshbhkt

मजदूर , जवान और किसान
तीनो बनाते देश को महान
ये  देश में सबसे ज्यादा परेशान,
जीवन भर करते रहते संघर्ष
तब दो वक्त रोटी का होता इंतजाम
पता नहीं होता कब आ जाए पैगाम ,
मरने पर भी न ढंग से कफ़न काठी
नहीं ढाई मन लकड़ी का इंतजाम
फिर भी शान्ति प्रदत करता शमशान ,
फिर भी ,
मेरा देश महान ,मेरा देश महान
जय मजदूर ,जय जवान ,जय किसान
ना कहीं मूर्ति ,न कहीं नामो निशान ।