Saturday, July 30, 2016

hamara dhrm maa baapu k prti

हमको अपने माँ पिता की सेवा मात्र ये  देखकर ही नहीं करनी चाहिए कि उन्होंने इस जीवन में हमको दिया क्या है ?,जैसे कि  हमको कितनी शिक्षा दिलवाई ,कितनी धन सम्रद्धि प्रदान की अथवा कितने आनंद के क्षणों से मिलाप कराया ,ये सब कुछ तो बहुत साधारण है ,किसी के अभिभावक बहुत कुछ दे देते और अधिकतर अभिभावक कुछ भी नहीं देते या नाम मात्र को जो उनके पास बच जाता वो  बच्चो को दे देते हैं ,परन्तु सभी के माँ बाप ने हम सबको जो अमूल्य निधि प्रदान की है वो है" इस संसार में हमारा पदार्पण कराना"यानी की हमको जन्म देना ,और बस केवल यही  सोचकर हमको अपने माँ बाप की सेवा सुश्रवा करनी चाहिए क्योँकि ये सबसे बड़ा  ऋण है हम सभी पर अपने माँ बापू का जिसको हम सम्पूर्ण जीवन भर भी सेवा करके नहीं उतार सकते
कांति  प्रकाश चौहान

No comments:

Post a Comment