Saturday, July 23, 2016

उनकी दरिंदगी की कहानियां बेमिशाल देखो
जो भी जवाब देता है उसी का मुंह लाल देखो ,
है किसी में हिम्मत जो उनको रोककर दिखाए
अगले दिन उसी के घर पर लगा पंडाल देखो ,
मुंह छुपाने के लिए उनको पूरा जहाँ जो पड़ा है
जहाँ भी जाओगे ,वहां उन्हीं का कमाल देखो ,
आधा बीत गया है आधा अधूरा ही रह गया है
पूरा  बीत जाने पर काल का इंतकाल भी देखो ।

No comments:

Post a Comment