Wednesday, June 29, 2016

मैंने तुम्हें कभी चाहत  भरे दिल से नहीं देखा
तू रूह है मेरी ,बस इतना कद्रदान हूँ  मैं तेरा ।

No comments:

Post a Comment