Friday, May 27, 2016

KISI KO JANTA KI KOI CHINTA NAHIN ,

देश के हुक्मरानों को ,

विपक्षियों को ,
क्या लेना देना ,
कौन मर रहा है ,
किसके साथ बलात्कार हुआ है ,
कौन भूखा मर रहा है ,
कौन बीमारी से तड़फ रहा है ,
कौन आत्महत्या कर रहा है ,
क्योँ कर रहा है ,
मात्र आंसू बहाने  चले जाते हैं ,
अपनी रोटियां सेंकने चले जाते हैं ,
चुनाव की गोटियां फिट करते हैं
वापस चले आते हैं ,
भ्र्ष्टाचार कर करके
खजाने भर रखे हैं
नित नए नए कपडे बदल रहे हैं ,
भाषण दे देकर जनता को
 दिग्भर्मित कर रहे हैं
खाली खोकली बातों से ही
जनता जनार्दन का पेट भर रहे हैं ।

No comments:

Post a Comment