Tuesday, May 24, 2016

बेवफा की कब्र पर
हम योँ ही सर पटकते रहे
वो सकून से  सोती रही और
हम आंसुओं में तर बतर हो गए

No comments:

Post a Comment