Wednesday, June 3, 2015

रिश्ते नाते



मैंने रिश्तों को सदैव  ही
ग्रहण लगते हुए  देखा है
पर चांदनी में नहाती हुई
कभी पूनम  की रात ना देखी,
धन ऐश्वर्य हो जाने पर
अहंकार को बहुतं देखा है
एक दुसरे से प्रतिबद्ध तो है 
पर नम्रता पूर्वक बात ना देखीं ,
ह्रदयों में अंगारे सुलगते हैं
पर सावन की बरसात ना देखी
भादों की उमस भरी रात देखी हैं
पर माघ की बर्फीली रात ना देखी|




No comments:

Post a Comment