Thursday, May 28, 2015

मुस्कुराने को
किसी नवयौवना का
जो पगले
जेब  में आना
बताते हैं ,
और हंसने को
उनके
फंस जाना समझ
अपनी उपलब्धि
बताते हैं ,
एक दिन
ऐसा आता है
जब वो तो मुस्कुराती
हंसती रहती हैं
पर दिल फेंकू
देवदास बन जाते हैं |

No comments:

Post a Comment