Sunday, April 19, 2015

मूल मंत्र कटाक्ष

मित्रो अभी अभी हमारे आदरणीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी तीन दिवशीय विदेशी यात्रा करके वापस अपने देश आ गए हैं ,और वहां से जो मूलमंत्र लेकर आये हैं जिसके बारे में उन्होंने स्वयं ही जनता को बताया की वो क्या है जो वो कड़ी दिमागी कसरत और अथक परिश्रम से उनको प्राप्त हुआ जिससे की समस्त देश का और देश की जनता का भला ही भला होगा और देश रातों रत उन्नति के शिखर पर पहुँच जाएगा ,तो उस मूलमंत्र का असली नाम है "विकास'
वैसे आज तक इस मूल मंत्र को मैंने तो किसी हिंदी की डिक्सनरी में नाहीं देखा और नाहीं पढ़ा ,हो सकता है इस शब्द का अभी अभी नया जन्म  हुआ हो जो कि यूरोपियन कन्ट्रीज और भारत के अथक प्रयत्नो से प्राप्त किया गया होगा ,
वैसे अब से पहले इस देश कि जनता और भूतपूर्व प्रधान मंत्रियों को आज तककिसी  को भी पता नहीं था इसीलिए हमारे देश का विकास नहीं हुआ ,
चलो अब मोदी जी मूलमंत्र ले आये हैं तो देश दिन दुगुनी और रात चौगुनी उन्नति करेगा ,
वैसे आप में  से किसी ने भी इस मूलमंत्र के बारे में नाहीं सूना होगा चलो इस मूलमंत्र के कारण उनकी यात्रा तो सफल हो ही गई ,
इस एक मूलमंत्र को प्राप्त करने हेतु हमारे P M को तीन तीन देशों कि ख़ाक छन्नी पड़ी ,चलो इस मूलमंत्र के लिए मैं उनका अभिवादन करता हूँ ,और प्रार्थना करूँगा कि वो भविष्य में भी इसी प्रकार विदेशों में जाकर नए नए मूल मंत्र लेकर आएं |

No comments:

Post a Comment