Sunday, August 18, 2013

" प्याज "

कुछ  नमकीन टिक्कड़
कुछ प्याज के छिल्कारे
छोटी सी आचार की फांक
खाते थे ले ले चटखारे ,
आचार तो दुर्लभ था
था प्याज का सहारा
महंगाई के इस दौर में
प्याज कर गई किनारा ,
प्याज तो बस प्याज है
गुणों का अद्भुत अंदाज है
कहीं पर गरीब की सब्जी या
अमीरों की खाने की सरताज है ,
क्या यु पी ऐ सरकार भारतियों को
प्याज उपलब्ध कराएगी
या २०१४ के चुनावों में
सत्ता से बाहर की हवा खाएगी
इसी प्याज ने बहुत पहले
भाजपा सरकार को भगाया था
इस बार प्याज के ऊपर लिखा है
कांग्रेस दिल्ली से नहीं देश से सफाया है |

No comments:

Post a Comment